परीक्षा देने आए थे लड़का-लड़की, एक दूसरे को देख बना लिया शादी का मन, बिना एगजान दिए लिए 7 फेरे

प्यार कभी भी, कहीं भी और किसी से भी हो सकता है। अब बिहार के कटिहार की इस अनोखी प्रेम कहानी को ही देख लीजिए। यहां लड़की अपनी मैट्रिक की परीक्षा देने  सेंटर पहुंची थी, तभी उसकी नजर अपने प्रेमी पर पड़ गई। बस फिर क्या था दोनों हाथोंहाथ शादी करने की जिद पर अड़ गए। इस दौरान दोनों के परिवारों के बीच हाई वोल्टेज ड्रामा भी हुआ, पुलिस भी आई, लेकिन अंत में हैप्पी एन्डिंग भी हुई।

दरअसल आकाश  गुंजरा गांव का रहने वाला नीतीश और मनिहारी थानाक्षेत्र के गोवागाछी गांव का रहने वाली गौरी एक दूसरे को पिछले चार साल से प्यार करते थे। इनकी प्रेम कहानी एक अंजान कॉल से स्टार्ट हुई थी। फिर दोनों अजनबी शुरुआत में थोड़ी थोड़ी बातचीत करने लगे। ये आपस में एक दूसरे को बधाई मैसेज भेजा करते थे। फिर इनके बीच दोस्ती हो गई। बाद में ये दोस्ती कब प्यार में बदल गई दोनों को भी पता नहीं चला। ये एक दूसरे पर जान छिड़कने लगे।

हाल ही में नीतीश और गौरी दोनों ही अपने परिजनों के साथ मैट्रिक की एग्जाम देने सेंटर आए हुए थे। यहां जब दोनों ने एक दूसरे को देखा तो शादी की जिद पर अड़ गए। दोनों के परिवार वालों ने शादी का विरोध किया। लेकिन लड़का लड़की नहीं माने। अंत में पुलिस को बुलाना पड़ा। पुलिस ने भी समझने की कोशिश की लेकिन प्रेमी जोड़ा नहीं माना।

अब चुकी दोनों बालिग थे इसलिए पुलिस कपल को अपने साथ थाने ले गई। यहां उन्होंने पास के एक मंदिर में दोनों की शादी करवा दी। शादी कर नीतीश गौरी बहुत खुश हुए और उन्होंने पुलिस के पैर पड़ उनका आशीर्वाद लिया। हालांकि इस खुशी के साथ उन्हें इस बात का गम भी है कि शादी के चक्कर में उनकी मैट्रिक की परीक्षा छूट गई। उनका कहना है कि दोनों अगले साल फिर से यह परीक्षा देंगे।

शादी के बाद दोनों के परिवार वालों ने उन्हें अपनाने से इनकार कर दिया। ऐसे में ये जोड़ा एक झटके में सड़क पर आ गया। हालांकि नीतीश का कहना है कि वह अपने घरवालों को मनाने की कोशिश करता रहेगा। उसे उम्मीद है कि घरवाले उसे और खुशी दोनों को ही अपना लेंगे।

वैसे इस लव स्टोरी पर आपकी क्या राय है? क्या कपल का इस तरह शादी करना सही फैसला था? यदि आप इस तरह की सिचूऐशन में होते तो क्या करते? अपने जवाब हमे कमेन्ट सेक्शन में जरूर दें। हमे आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा।