व्हाट्सएप ग्रुप और फेसबुक पेज पर लिखी ये बातें, तो हो जाएगी जेल!

4

वाराणसी/यूपी – फेसबुक, व्हाट्सऐप और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर क्या पोस्ट करें इसपर हमेशा से विवाद होता रहा है। लेकिन अब इसपर सरकार और अधिकारी कड़ा रुख अपना रहे हैं। झूठी, भ्रामक खबरों और अफवाहों पर अंकुश लगाने के लिए वाराणसी (यूपी) के जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है कि यदि कोई फेसबुक या व्हाट्सऐप या किसी अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिए किसी भी प्रकार की अफवाह, गलत तथ्य या भड़काऊ पोस्ट डालता है तो संबंधित व्यक्ति के साथ ही उसके ग्रुप एडमिन पर भी कार्रवाई की जाएगी। Whatsapp administrator be careful.

व्हाट्स ग्रुप के Admin हैं तो हो जाएं सावधान –

अक्सर ये सभी के साथ होता है कि सुबह व्हॉट्सएप और फेसबुक खोलते ही कई प्रकार के फर्जी मैसेज दिखने लग जाते हैं। सभी के व्हॉट्सएप ग्रुप में ऐसे कई इस तरह के मैसेज आते हैं जो काफी आपत्तिजनक और मात्र अफवाह होते हैं। अगर आप भी ऐसे ही किसी ग्रुप के आप एडमिन हैं तो संभाल जाइए, क्योंकि ऐसे मैसेज से आपको जेल हो सकती है।

दरअसल, वाराणसी के जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है कि अगर सोशल मीडिया के किसी ग्रुप पर गलत तथ्यों, अफवाह और भ्रामक सूचनाएं शेयर कि जाएंगी तो ग्रुप एडमिन के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जा सकता है और इसके लिए एडमिन जेल भी जा सकता है।

वाराणसी में अफवाह फैलाने के कारण दो गिरफ्तार –

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर गलत जानकारी और भ्रामक तस्वीरों के कारण पिछले कुछ समय से कई सारे दंगे भड़के हैं या ऐसी स्थिती बनी है। इसी को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने यह फैसला लिया है कि ऐसी जानकारी शेयर होने पर सोशल मीडिया ग्रुप के एडमिनेस्ट्रेटर पर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही कहा है कि एडमिन को ग्रुप में केवल उन्हीं लोगों को सदस्य बनाना चाहिए जिन्हें वह जानता हो।

ऐसी जनकारी या खबरें लोगों में सांप्रदायिक तनाव और अफवाह फैला सकती हैं इसलिए ग्रुप एडमिन को इसका ख्याल रखना होगा और ऐसी झूठी जानकारी फैलाने वाले सदस्य को ग्रुप से हटाना होगा। अगर ग्रुप एडमिन ऐसा नहीं करता है तो उसे दोषी माना जाएगा और कार्रवाई की जाएगी। इस आदेश में यह भी कहा गया है कि सोशल मीडिया पर फ्रिडम ऑफ स्पीच अहम है लेकिन इसके साथ कुछ जिम्मेदारियां भी हैं।