हनुमान जयंती पर भक्तों पर लाठी चार्ज कराने वाली ममता का सिर काटने वाले को ये देगा 11 लाख रूपये: देखें वीडियो!

भारतीय राजनीति में विवादित बयानों का दौर जारी है. तमाम सियासी घटनाओं के बीच ऐसे बयान भी आते रहते हैं जो विवादों में घिर जाते हैं. आजकल सिर काटने की बातें भी खूब हो रही हैं. इसी बीच मंगलवार को अलीगढ में एक बीजेपी नेता ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का सिर काटकर लाने वाले को 11 लाख रूपये देने का एलान किया.

ममता बनर्जी का सिर काटकर लाने वाले को 11 लाख रूपये का इनाम देने की घोषणा :

यह बयान बीजेपी युवा मोर्चा के नेता योगेश वार्ष्णेय ने दिया है. योगेश वार्ष्णेय ने दीदी यानी कि ममता बनर्जी का सिर काटकर लाने वाले को 11 लाख रूपये का इनाम देने की घोषणा की है. दरअसल मंगलवार को हनुमान जयंती के अवसर पर पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में धार्मिक रैली निकाल रहे लोगों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया.

पश्चिम बंगाल पुलिस के इस लाठीचार्ज में जबरदस्त हिंसा देखने को मिली. इस बात से भाजपा समेत देश के ज्यादातर हिन्दू संगठन नाराज हैं. इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजयुमो नेता योगेश वार्ष्णेय ने यह विवादित बयान दिया. वार्ष्णेय ने कहा कि ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में न तो सरस्वती पूजा होने देती हैं और ना ही रामनवमी का मेला लगने देती हैं. हनुमान जयंती के मौके पर जुलुस निकला तो लोगों पर लाठीचार्ज करके उन्हें बुरी तरह पिटवाया गया. वह मुसलमानों को खुश करने के लिए इफ्तार पार्टी देती हैं. उनका सिर काटकर लाने वाले को 11 लाख का इनाम मिलेगा.

दरअसल रविवार को जिले की सूरी पुलिस ने हनुमान जयंती के आयोजकों से कहा था कि किसी भी तरह की कोई रैली या जुलूस निकालने की इजाजत नहीं मिलेगी. आयोजकों के बार बार निवेदन करने और पूरी जिम्मेदारी के साथ जुलूस निकालने के आग्रह पर भी रैली की अनुमति नहीं मिली इसपर आयोजकों ने बिना अनुमति ही जुलूस निकालने की योजना बनाई. मगलवार को लोगों ने जब इकठ्ठा होकर जय श्री राम का नारा लगाया तो पुलिस ने उनपर लाठी चार्ज कर दिया.

इस मामले पर कई तरह के राजनैतिक बयान आ रहे हैं. कई नेताओं का कहना है कि इससे ममता बनर्जी की तुष्टिकरण की राजनीति का स्पष्टीकरण हो रहा है. वो हिन्दू धर्म से जुड़े सभी आयोजनों पर रोक लगाती हैं और मुस्लिम धर्म के कार्यक्रमों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेती हैं.

देखें वीडियो-

Leave a Reply

Your email address will not be published.