समाचार

हिंसा भड़काने के आरोप में ट्विटर और फेसबुक ने ब्लॉक किए ट्रंप के अकाउंट, साथ में दी चेतावनी

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में मिली हार को डोनाल्ड ट्रंप स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं। इसी बीच कल अमेरिका में ट्रंप समर्थकों ने हिंसा की और इस हिंसा में एक महिला की मौत हो गई। हिंसा को रोकने के लिए नेशनल गार्ड्स को एक्शन लेना पड़ा और हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाया गया। हिंसा के बाद ट्रंप के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सोशल मीडिया की कंपनी ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम ने अपने-अपने प्लेटफॉर्म पर ट्रंप के अकाउंट को बंद कर दिया।

ट्विटर द्वारा ट्रंप के अकाउंट को 12 घंटे के लिए ब्लॉक किया गया है। साथ ही में ट्रंप को चेतावनी दी गई है कि अगर भविष्य में फिर ऐसा होता है और नियमों का उल्लंघन किया जाता है, तो उनके अकाउंट को स्थायी रूप से ब्लॉक कर दिया जाएगा। ट्विटर ने ट्रंप को वो तीन ट्वीट भी डिलीट करने को कहा है, जिन्हें इस हिंसा का मुख्य कारण बताया जा रहा है। इसी तरह है फेसबुक और यूट्यूब ने भी ट्रंप के उन वीडियो को हटा दिया है। जिसमें वे अपने समर्थकों को संबोधित कर रहे थे। साथ में ही फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ट्रंप के पेजों को अगले 24 घंटों के लिए ब्लॉक कर दिया गया है।

दरअसल ट्रंप ने हिंसा के दौरान ही अपने समर्थकों को संबंधोति किया था और उनसे अपील की थी कि वो अमेरिका को बचा लें। इन्होंने कहा था कि राष्ट्रपति चुनाव में धांधली हुई है। फेसबुक की ओर से कहा गया है कि ये आपात स्थिति है और हम ट्रंप के वीडियो को प्लेटफॉर्म से हटाने सहित कई उचित कदम उठा रहे हैं। फेसबुक के उपाध्यक्ष गॉय रोसेन ने कहा कि वीडियो को हटा दिया गया है। क्योंकि इससे हिंसा और भड़की है।


कैपिटोल परिसर में प्रदर्शनकारियों के दाखिल होने के करीब दो घंटे बाद ट्रंप ने ये वीडियो पोस्ट की थी। प्रदर्शनकारी इलेक्टोरल कॉलेज के नतीजों पर संसद के संयुक्त सत्र में बाधा डालना चाहते थे। क्योंकि इस सत्र में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत की पुष्टि होनी थी। वहीं इस हिंसा के कारण वॉशिंगटन डीसी के मेयर ने राजधानी में कर्फ्यू की घोषणा की है।

गौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन को जील मिली है। लेकिन ट्रंप किसी भी सूरत में अपनी हार माने को तैयार नहीं है। ट्रंप लगातार आरोप लगा रहे हैं कि चुनावों में धांधली की गई है।

Back to top button