समाचार

CBI के सामने डॉक्‍टरों ने खोले कई राज, कहा-पुलिस के कहने पर रात को हुआ था सुशांत का पोस्टमॉर्टम

सुशांत सिंह राजपूत का पोस्‍टमॉर्टम करने वाले डॉक्‍टरों से आज सीबीआई की और से पूछताछ की गई है और पूछताछ के दौरान सीबीआई के सामने डॉक्‍टरों ने कई सारे राज खोले हैं। सीबीआई की पूछताछ में सुशांत की अटॉप्‍सी करने वाले एक डॉक्‍टर ने बताया कि मुंबई पुलिस के आदेश पर ही सुशांत का पोस्‍टमॉर्टम जल्‍दी किया गया था। मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार सीबीआई की टीम ने डॉक्‍टरों से शनिवार को जब पूछताछ की। तो डॉक्टरों से सबसे पहले यही सवाल किया गया कि सुशांत की अटॉप्‍सी करने में इतनी जल्‍दबाजी क्‍यों दिखाई गई। इस सवाल के जवाब में एक डॉक्‍टर ने कहा कि उन्हें मुंबई पुलिस ने ऐसा करने को कहा था।

दरअसल सुशांत सिंह का पोस्टमॉर्टम रात के समय किया गया था। जो कि नियमों के खिलाफ है। पोस्टमॉर्टम के नियमों के तहत रात में पोस्टमॉर्टम नहीं किया जा सकता है। रात में पोस्टमॉर्टम करने के लिए विशेष मंजूरी लेनी होती है। लेकिन कूपर अस्‍पताल के डॉक्टरों ने सुशांत का पोस्टमॉर्टम रात के समय कर दिया था। 14 जून की सुबह सुशांत की लाश उनके बेडरूम में मिली थी और 14 जून की रात को ही सुशांत का पोस्‍टमॉर्टम कर दिया गया।

अभी भी चल रही है पूछताछ

बताया जा रहा है कि अस्‍पताल में सुशांत का अटॉप्‍सी करने वाले 5 डॉक्‍टरों से पूछताछ की जा रही है और सीबीआई को अटॉप्‍सी रिपोर्ट में कई तरह की खामियां भी मिली है। जिसको लेकर इन डॉक्टरों से सवाल किए जा रहे हैं।

90 मिनट में किया था पोस्टमॉर्टम

इससे पहले ‘इंडिया टुडे’ की एक रिपोर्ट में ये दावा किया गया था कि जब सुशांत का पोस्टमॉर्टम किया जा रहा था। उस समय वहां पर उनकी बड़ी बहन मीतू सिंह भी थी और मीतू सिंह के कहने पर ही पोस्टमॉर्टम जल्दी किया गया था। रिपोर्ट में पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर सचिन सोनावने के आधार पर कहा गया था कि सुशांत की बहन और उनके बहनोई ओपी सिंह की रिक्वेस्ट पर पोस्टमॉर्टम किया गया था। पोस्टमॉर्टम पूरा होने में 90 मिनट लगे थे। साथ में ही डॉक्टर ने ये भी कहा कि ऐसा कोई नियम नहीं है। जिसके तहत रात में पोस्टमॉर्टम नहीं किया जा सकता। मुंबई में रात में भी पोस्टमॉर्टम किए जाते हैं।

जांच के लिए एम्स अस्पताल भेजी जाएगी रिपोर्ट

सीबीआई की और से सुशांत की अटॉप्‍सी रिपोर्ट को जल्द ही दिल्ली के एम्स अस्पताल भी भेजा जाएगा। दरअसल सीबीआई के कहने पर एम्स ने एक फोरेंसिक विशेषज्ञों की टीम का गठन किया है। जिसमें 5 फोरेंसिक सदस्य हैं, जो कि सुशांत की पोस्टमॉर्टम फाइलों की जांच करेंगे। इस टीम का नेतृत्व एम्स के फोरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता कर रहे हैं। सुशांत की फोरेंसिक रिपोर्ट के अलावा डॉ. सुधीर गुप्ता की टीम सुशांत सिंह राजपूत को दी जा रही दवाइयों की भी जांच करेगी। इन दवाइयों की जांच एम्स की प्रयोगशाला में की जाएगी।

रिया के मुर्दाघर जाने पर उठ रहे हैं सवाल

जिस अस्पताल में सुशांत का पोस्‍टमॉर्टम किया गया था। वहां पर रिया चक्रवर्ती गई थी। खबरों के अनुसार सुशांत की पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट आने से पहले 15 जून को रिया चक्रवर्ती अस्‍पताल के मुर्दाघर में थीं। जहां पर वो 45 मिनट तक रुकी थीं। रिया को किस आधार पर मुर्दाघर जाने दिया गया। इसको लेकर भी सीबीआई अस्‍पताल प्रबंधन और मुंबई पुलिस से सवाल कर सकती है।

वहीं कहा जा रहा है कि रिया से भी सीबीआई जल्द पूछताछ करने वाली है। रिया के साथ-साथ उनके परिवार वालों से भी सीबीआई पूछताछ करेगी। आज सीबीआई की टीम की और से सुशांत के कुक नीरज, दोस्त सिद्धार्थ पठानी, दीपेश से पूछताछ की गई है। इनके अलावा सीबीआई की दूसरी टीम ने सुशांत का पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टरों से पूछताछ की है।

Back to top button