दिलचस्प

22 साल की चंदना हीरन ने HUL को झुकाया, कंपनी को बदलना पड़ा ‘Fair & Lovely’ का नाम

हिंदुस्तान यूनीलीवर कंपनी ने अपने फेमस ब्रैंड फेयर एंड लवली से फेयर शब्द को हटाने का फैसला लिया है। बता दें कि फेयर एंड लवली भारत में लोकप्रिय और काफी यूज किया जाने वाला ब्रैंड है। हिंदुस्तान यूनीलीवर कंपनी ने अपने एक बयान में कहा है कि फेयर एंड लवली को लेकर उस पर पहले भी आरोप लगते रहे हैं कि वह दुराग्रह और भेदभाव पैदा करती है। यही वजह है कि अब कंपनी ने फेयर एंड लवली के नाम बदलने जैसा बड़ा कदम उठाया है। बता दें कि फेयर एंड लवली से फेयर शब्द यूं ही नहीं हटा है, बल्कि इसके पीछे मुंबई की रहने वाली चंदना हीरन का बड़ा हाथ बताया जा रहा है आइये जानते हैं आखिर क्या है पूरा मामला…

दरअसल, 22 वर्षीय चंदना हीरन चार्टर्ड अकाउंटेंसी के लास्ट ईयर की छात्रा हैं। चंदना ने ही हिंदुस्तान यूनिलीवर कंपनी के खिलाफ एक ऑनलाइन याचिका दायर की थी। चंदना के इस मुहिम को लोगों का खूब सपोर्ट मिला, देशभर से  हजारों लोगों ने चंदना के इस मुहिम पर अपनी स्वीकृति दी।

मिली जानकारी के मुताबिक उन्होंने अपनी याचिका में ये स्पष्ट किया था कि किसी भी कॉस्मेटिक कंपनी को अपने ब्यूटी प्रोडक्ट का इस तरह से ब्रांडिंग नहीं करना चाहिए। उनका कहना है कि जो प्रोडक्ट साफ तौर पर ब्यूटी को प्रमोट करते हों, ऐसी ब्रांडिंग पर पूर्णतः रोक लगनी चाहिए।  साथ ही चंदना ने तमाम कॉस्मेटिक कंपनियों पर सवालिया निशान खड़ा किया है और ये पूछा कि फेयर ही अच्छा क्यों है? डार्क क्यों नहीं?

चंदना हीरन के मुहिम पर ‘Black Lives Matter’ का व्यापक असर

गौरतलब हो कि इस समय अमेरिका में ‘Black Lives Matter’ नाम से एक मुहिम छिड़ी हुई है, यह आंदोलन अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के चलते नाराजगी के बाद शुरू हुई। माना जा रहा है कि चंदना के मुहिम पर ‘Black Lives Matter’ आंदोलन का भी व्यापक असर पड़ा है। बता दें कि इस आंदोलन के बाद से पूरे दुनिया में अश्वेतों से भेदभाव की बातों पर चर्चाएं तेज हो गई थीं। इस पूरे मामले में चंदना हीरन का कहना है कि किसी भी इंसान के चमड़ी के रंग को लेकर भेदभाव करना बेतुका है, मेरा रंग भी सांवला है इस बात से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। अगर मुझे नहीं पड़ता है, तो दूसरों को भी नहीं पड़ना चाहिए। उनका कहना है कि इंसान के स्किन का कलर कैसा भी हो, सभी को जीने का हक है।


चंदना कहती हैं कि मेरे आसपास कई ऐसे लोग हैं, जो अपने स्किन के कलर को लेकर काफी परेशान रहते हैं। वो कहती हैं कि स्किन मैग्जीन में भी सांवले रंग की स्किन वालों को बढ़ावा नहीं दिया जाता है। साथ ही साथ सोशल मीडिया और इंटरनेट पर भी ब्यूटी फिल्टर्स और फेयर फोटो एडिटिंग के सॉफ्टवेयर भरे पड़े हैं, ये ठीक बात नहीं है।  

जानिए फेयर एंड लवली का नया नाम

चंदना ने उन सभी लोगों का धन्यवाद किया है, जिन लोगों ने उनके याचिका को समर्थन दिया। साथ ही ये भी कहा कि हिंदुस्तान यूनीलीवर द्वारा फेयर एंड लवली से फेयर शब्द हटाना एक साहसिक कदम है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 25 जून को कंपनी ने फेयर शब्द को अपने प्रोडक्ट(फेयर एंड लवली) से हटा दिया था। अब इसे ग्लो एंड लवली नाम से जाना जाएगा।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close