बॉलीवुड

फ़िल्मी ‘माफिया’ पर भड़के अदनान सामी, कहा- बॉलीवुड किसी के बाप की जागीर नहीं..

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के सुसाइड के बाद से बॉलीवुड में नेपोटिज्म, गुटबाजी और मूवी माफिया जैसे टॉपिक्स पर चर्चा होने लगी. इसके बाद म्यूजिक इंडस्ट्री में चल रहे भेदभाव को लेकर हाल ही में सोनू निगम ने भी बहुत कुछ कहा था. अब इसी हिंदी म्यूजिक इंडस्ट्री के फेमस सिंगर अदनान सामी ने भी अपनी बात सामने रखी है. एक वेबसाइट से बातचीत के दौरान अदनान ने ‘माफिया’ और ‘आउटसाइडर’ के ऊपर बोला है.

मैं भी हूं आउटसाइडर

अदनान ने कहा कि यदि आप टेलेंटेड हैं, तो आपको अवसर जरूर मिलना चाहिए. और यदि आपको मना किया जा रहा है तो चीजें बदलने की जरूरत है. जब अदनान से पूछा गया कि क्या आप भी मुंबई में एक आउटसाइडर हैं? तो इस पर अदनान कहते हैं कि बिलकुल सही कहा. मैं यहाँ सबसे बड़ा आउटसाइडर था. लेकिन मैंने यहाँ खुद को जबरदस्ती टिकाए रखा.

बॉलीवुड किसी के बाप की जागीर नहीं

अदनान के इस जवाब पर पूछा गया कि ‘फिर ऐसा समझे कि इस इंडस्ट्री में आउटसाइडर होना इतना बड़ा मुद्दा भी नहीं ही?’ इस पर अदनान ने कहा – नहीं! ऐसा नहीं है, अब चीजें बदल गई हैं. देखिए आपको कुछ समझना होगा. मेरा केस फिलहाल साइड में रख दीजिए. लोग कुछ सुपरस्टार्स का नाम लेते हैं और कहते हैं देखों वे भी तो आउटसाइडर थे. उन्होंने तो नाम कमा लिया. लेकिन आप इसकी तुलना आज के समय में नहीं कर सकते हैं’

अदनान आगे कहते हैं ‘जब वे लोग दो दशकों या उसके पहले इंडस्ट्री में आए थे तब चीजें काफी अलग थी. तब टेलेंट की कदर की जाती थी, वे सिक्योर थे, उन्हें मौका भी दिया जाता था. लेकिन वर्तमान में माफिया मौजूद है. अब स्टार किड्स ने इस पर कब्ज़ा जमा लिया है. अब चीजें काफी अलग है. अब टेलेंटेड लोगों को बिना किसी प्रताड़ना के आगे लाने की जरूरत है. बॉलीवुड किसी के बाप की जागीर नहीं है.

जो डिजर्व करते हैं उनका सपोर्ट करता हूँ


बदलाव कैसे आएगा? आप क्या करेंगे? इस पर अदनान कहते हैं कि मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि इस मामले में सीरियस स्टेप लूंगा. मैं चाहता हूँ कि नए टेलेंट सामने आए. ये इकोसिस्टम के लिए भी जरूरी है. अदनान ये भी कहते हैं कि कभी कभी हम पॉवरफुल लोगों को इतनी अहमियत दे देते हैं कि वे समझते हैं दुनिया सिर्फ उनके इदगिद ही घुमती है. वे आगे बताते हैं कि बहुत से ऐसे लोग हैं जो इस बारे में बोलना चाहते हैं लेकिन वे डरते हैं. वे कहते हैं ‘अगर हमारा नाम आ गया तो हमारा क्या होगा?’ ये डर हर जगह मौजूद है. ये उनके हक़ की बात है और मैं समझता हूं कि वे किन कठिनाइयों से गुजर रहे हैं. इसलिए मैं हमेशा उनका सपोर्ट करता हूं जो डिजर्व करते हैं.

सुशांत की मौत के बाद अदनान की तरह और भी कई लोग सामने आ रहे हैं. बस अब उम्मीद यही है कि बॉलीवुड और म्यूजिक इंडस्ट्री में चीजें बदल जाए, ताकि नए टेलेंट को आगे बढ़ने का बराबर मौका मिले.

Back to top button
?>