समाचार

रिश्तों पर भारी पड़ रहा है कोरोना का ख़ौफ़, मां की अर्थी को नहीं मिल सका कंधा

कोरोना का खौफ अब लोगों के मन में समा चुका है। अब कोरोना व्यापक स्तर पर लोगों को हर तरह से प्रभावित कर रहा है। लोग कोरोना संक्रमण की मार तो झेल ही रहे हैं, साथ ही साथ अब कोरोना मानसिक स्तर पर भी लोगों को प्रभावित करता हुआ दिख रहा है। ऐसा ही एक मामाला उत्तर प्रदेश के बागपत जिले  से सामने आया है, जिसे सुनकर आपकी पलकें भीग जाएंगी। आप ये सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि आखिर ये कैसे दिन आ गए? चलिए जानते हैं, आखिर क्या है पूरा मामला…

दरअसल, कोरोना का खौफ लोगों में इतना ज्यादा है कि अब लोग शव को कंधा देने से भी कतरा रहे हैं जबकि हिंदू रीति रिवाज में अंतिम संस्कार के दौरान शव को कंधा देना एक पुण्य का काम माना जाता है। गौरतलब हो कि पिछले दिनों बागपत के जैन मोहल्ले में एक वृद्धा जिसका नाम कमलेश देवी था, उनकी मौत हो जाती है। उसके मौत के बाद लोग उसे कंधा देने को राजी नहीं होते हैं और शव को रेहड़ी से श्मशान घाट पहुँचाया जाता है। इसके बाद श्मशान घाट में गमगीन माहौल में उनका अंतिम संस्कार होता है। बता दें कि, अंतिम संस्कार में पहुँचे लोग वृद्धा को कंधा देने को भी राजी नहीं हुए थे।

कंधा देने नहीं आया कोई

गौरतलब हो कि जैन मोहल्ला निवासी 65 वर्षीय कमलेश देवी के पति की पहले ही मौत हो गई थी। जबकि कमलेश देवी भी पिछले कई दिनों से बीमार चल रही थीं। बीमारी के चलते गुरूवार को उनका हर्टफेल से उनका निधन हो गया। जैसे ही इसकी जानकारी उनके परिवार को मिली, परिवार के लोग इकट्ठा हुए और अंतिम संस्कार की तैयारियों में जुट गए, लेकिन बात जब उन्हें कंधा देने की आई तो कोई राजी नहीं हुआ।

बता दें कि  पहले 4 कंधों पर शवयात्रा निकालने की तैयारी की गई। मगर, सभी को कोरोना का डर सता रहा था इसके चलते कोई कंधा देने को तैयार नहीं हुआ। इसके बाद वृद्धा के इकलौते बेटे विकास ने एक रेहड़ी की व्यवस्था की और परिजनों के साथ मिलकर शमशान घाट तक शव को पहुँचाया। श्मशान घाट में परिवार और समाज के कुछ लोगों की उपस्थिति में वृद्धा कमलेश देवी का गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया।

बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले

गौरतलब है कि देश में अनलॉक-1 के लागू होते ही कोरोना वायरस ने भी अपनी रफ्तार पकड़ ली है। देश में पिछले 24 घंटों में पहली बार लगभग 10 हजार केस आए हैं, वहीं एक दिन में सबसे अधिक मौतों का भी रिकॉर्ड टूट गया। बता दें कि पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस की चपेट में आकर 330 से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवा दी। इसी के साथ अब देश में 2 लाख 30 हजार से अधिक कोरोना के मामले हो चुके हैं, वहीं इससे होने वाली मौतों की संख्या भी बढ़कर 6500 से अधिक हो चुकी है। साफ है कि, कोरोना अब धीरे धीरे अपने पिक (चरम स्थिति) पर पहुँच रहा है।

Back to top button