राजनीति

ट्रंप की इस हरकत से परेशान होकर ओबामा के निकले आंसू, कहा- ट्रंंप खुद नहीं जानते कि वो क्या कर रहे

अमेरिका में इन दिनों कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है। अभी तक अमेरिका में कोरोना से 90 हजार लोगों की जान जा चुकी है। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप अमेरिकी को फिर से खोलने की बात भी कह रहे हैं। मरने वालों लोगों की संख्या को देखते हुए राष्ट्रपति ट्रंप के इस बयान ने सभी को हैरान कर दिया है। यहां तक की पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा भी ट्रंप की इस हरकत और ऐसी  बयानबाजी से परेशान हो गए हैं। कोरोना वायरस से निपटने के ट्रंप के तरीकों पर बात करते हुए ओबामा ने उनकी आलोचना की। कोरोना पर बात करते हुए बराक ओबामा की आंखों में आंसू आ गए।

ट्रंप पर भड़के ओबामा

बता दें कि बराक ओबामा 2020 में ग्रैजुएट होने वाले ऐतिहासिक अश्वेत कॉलेजों से निकलने वाले छात्रों को ऑनलाइन संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने जॉर्जिया में मारे गए अश्वेत को लेकर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि ये जो कुछ हो रहा है उससे ये ही पता चलता है कि आज भी अमेरिका में रंग को लेकर कितना भेदभाव है। छात्रों के संबोधन के दौरान ओबामा ने ट्रंप पर भी कई सवाल उठाए। हालांकि उन्होंने सीधे तौर पर ट्रंप का नाम नहीं लिया,लेकिन उनका इशारा बिल्कुल ट्रंप की ओर ही था।

कोरोना पर बात करते हुए ट्रंप ने कहा कि जो भी लोग देश चला रहे हैं, वो ये नहीं जानते कि वो क्या कर रहे हैं। कई लोग तो ऐसे भी हैं जो कोई जिम्मेदारी नहीं लेना चाहते। बता दें कि अमेरिका में कोरोना के कारण स्थिति हर दिन बेकाबू होती जा रही है, लेकिन राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए वो दोबारा सबकुछ खोलना चाहेंगे। उनके इसी बयान और नीति पर ओबामा ने सवाल उठाए हैं।

भेदभाव पर ओबामा ने उठाए सवाल

छात्रों से बात करते हुए पूर्व राष्ट्रपति ने कहा आपको नेतृत्व संभालने के लिए तैयार रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर ये दुनिया बेहतर हो सकती है तो इसे केवल आप बेहतर बना सकते हैं। अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति रहे ओबामा ने चर्चित अहमुद अर्बरी मामले का भी जिक्र किया। बता दें कि जॉर्जिया में एक अश्वेत नागरिक की शूटिंग के दौरान गोली मारी गई थी। उस नागरिका के मारे जाने का वीडियो भी वायरल हुआ था जिसे लेकर हर तरफ आलोचना की जा रही है।

गौरतलब है कि 23 फरवरी को 25 साल का अर्बरी अपने पड़ोस में टहलने के लिए जा रहा था। उसी दौरान दो श्वेत हथियारबंद लोगों ने उसे एकदम से घेर लिया। उन लोगों को शक था कि इलाके में हुई कुछ लूट की घटना में अर्बरी का हाथ था। खुद को घेरा देखकर अर्बरी ने जब दूर भागने की कोशिश की तो उन लोगों ने उसे गोली मार दी। इस घटना को लेकर अमेरिका के अश्वेत समाज में नाराजगी है।

इस मामले को लेकर पुलिस पर आरोप लग रहे हैं कि उन्होंने आरोपियों को नहीं पकड़ा। पुलिस ने दो महीने की देरी के बाद आरोपियों को गिरफ्तार किया। इस मामले पर बात करते हुए बाराक ओबामा ने कहा कि अमेरिका में भेदभाव साफ तौर पर देखा जा सकता है। ये सिर्फ पब्लिक हेल्थ में नहीं दिखता। एक अश्वेत इंसान बाहर घूमने निकलता है और उसे लोग रोकते हैं, सवाल करते हैं और फिर उसे गोली मार देते हैं। गौरतलब है कि व्हाइट हाउस छोड़ने के बाद से ओबामा बिल्कुल शांत थे और ट्रंप के किसी फैसले पर उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की थी। हालांकि कोरोना और दूसरी समस्याओं को बढ़ता देख ओबामा ने ट्रंप पर सवाल उठाना शुर कर दिया है।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close