राजनीति

राहुल गांधी बोले- मोदी सरकार मजदूरों को पैकेज की जगह खाते में डायरेक्ट पैसे करें ट्रांसफर

पूरा देश कोरोना वायरस के संक्रमण की जंग लड़ रहा है, कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देशभर में लॉक डाउन का ऐलान हो चुका है, इसी बीच कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने क्षेत्रीय पत्रकारों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत की थी, इस बातचीत में उन्होंने सरकार के द्वारा जारी किए गए पैकेज पर कुछ सवाल खड़े किए हैं, राहुल गांधी ने मोदी सरकार से यह अपील की है कि मजदूरों को पैकेज के स्थान पर धन राशि उनके खातों में सीधा ट्रांसफर किया जाए।

राहुल गांधी ने क्षेत्रीय पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए यह बोला है कि पूरा देश इस वक्त कठिनाई में है, इस समय गरीब लोग भूखे प्यासे हैं, जब बच्चों को चोट लगती है तो मां अपने बच्चों को कर्ज नहीं देती है, मां अपने बच्चे की मदद करती है, इन्होंने अपनी प्रेस वार्ता में यह बोला कि कर्ज का पैकेज नहीं होना चाहिए, बल्कि किसान, मजदूरों की जेब में पैसे डायरेक्ट जाने चाहिए, राहुल गांधी ने कहा कि सरकार को साहूकार के जैसे कार्य नहीं करने चाहिए, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस बात पर जोर देकर कहा कि अगर मांग उत्पन्न नहीं हुई तो देश की आर्थिक रूप से कोरोना वायरस से बड़ा नुकसान हो सकता है, पूरा देश एक मुश्किल दौर से गुजर रहा है, आज लोगों को पैसों की आवश्यकता है ऐसे में इनको पैसे तुरंत देने चाहिए।

उन्होंने कहा कि अगर सरकार को लगता है कि हमारा राजकोषीय घाटा बढ़ जाएगा तो विदेश की जो एजेंसियां है वह हमारी रेटिंग कम कर देंगी, लेकिन मैं यह कहना चाहता हूं कि हिंदुस्तान की जो रेटिंग है वह हिंदुस्तान के लोगों से है, इसलिए सरकार को विदेश के बारे में सोचकर कार्य नहीं करने चाहिए, हमारे देश के गरीब लोगों को इस वक्त पैसों की आवश्यकता है, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से अनुरोध करता हूं कि वह इस पैकेज पर ]पुनर्विचार करें और मजदूरों के खाते में धनराशि सीधा ट्रांसफर करें, उन्होंने कहा कि आज जो मजदूर भूखे प्यासे सड़क पर चल रहे हैं, जो महिलाएं भूखी प्यासी है, यह हमारे देश का भविष्य है, सरकार जल्द से जल्द इन प्रवासी मजदूरों को अपने घरों तक पहुंचाएं, इनका हमको पूरा समर्थन करना चाहिए।

राहुल गांधी ने अपनी प्रेस वार्ता में यह कहा कि सरकार को सावधानी पूर्वक और समझदारी के साथ धीरे-धीरे लॉक डाउन को हटाना होगा, सरकार को इस बात पर ध्यान देना होगा कि किसी भी व्यक्ति की जान कोरोना वायरस जैसी महामारी के कारण नहीं जानी चाहिए, उन्होंने कहा कि यह जो समय चल रहा है यह बहुत मुश्किल समय है और इस वक्त किसी को भी गलत बताना ठीक नहीं है, इस समय इस समस्या के समाधान के बारे में सोच विचार करने की आवश्यकता है, इस वक्त प्रवासी मजदूरों की समस्या बहुत बड़ी है ऐसे में सभी को इनकी सहायता करनी चाहिए, उन्होंने कहा कि विपक्ष की भी यह जिम्मेदारी बनती है कि इस मुश्किल घड़ी में यह इनकी सहायता करें, हम सबको मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है, हम सभी को आगे बढ़कर समस्या का समाधान करना होगा।

Show More

Related Articles

Back to top button