आखिरकार क्यों भारतीय रेलवे है आतंकियों के निशाने पर, जानें वजह!

पिछले कुछ दिनों से आतंकवादी लगातार भारतीय रेलवे को अपना निशाना बना रहे हैं। ऐसा करके वह अपना आतंक ज्यादा से ज्यादा फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। रेलवे पर हमला करके वह ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाने में कामयाब हो रहे हैं। भारतीय खुफिया एजेंसियों का कहना है कि इस समय आईएसआई की यही रणनीति है कि रेलवे पर ज्यादा से ज्यादा हमला करके लोगों में दहशत फैलाई जाए।

ट्रेन ट्रैक उड़ाने में इस्तेमाल हुआ था प्रेशर कुकर बम:

पिछले साल से लगातार आतंकियों ने किसी और चीज को निशाना बनाने की बजाए रेलवे को अपना निशाना बनाया है। आप तो जानते ही हैं कि पिछले साल कानपुर में हुए इंदौर-पटना रेल हादसे में आईएसआई का हाथ होने का खुलासा हो चुका है। आपको बता दें कि इस रेल हादसे से जुड़े 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिनमें से एक आरोपी मोतीलाल पासवान ने पुलिस को बताया कि ट्रेन के ट्रैक को उड़ाने के लिए प्रेशर कुकर बम का इस्तेमाल किया गया था।

हमला करने में नाकाम होने पर कर दी हत्या:

गौरतलब है कि पिछले साल कानपुर में दो रेल हादसे हुए थे। आपको जानकर काफी हैरानी होगी कि बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के रहने वाले दो युवकों अरुण राम और दीपक राम के शव संदिग्ध हालत में 28 दिसंबर को नेपाल से बरामद किये गए थे। सूत्रों से यह पता चला कि उनकी हत्या केवल इसलिए कर दी गयी, क्योंकि उन्हें पूर्वी चंपारण जिले के घोड़ासहन में रेलवे ट्रैक पर बम धमाका करना था और किन्हीं कारणों से वो दोनों युवक आतंकी घटना को अंजाम नहीं दे पाए।

रेल हमलों में आईएसआई का हाथ:

आपको बता दें कि इन आतंकी हमलों के मास्टरमाइंड शमसुल हुदा को पिछले महीने ही नेपाल पुलिस ने दुबई से गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े जाने के बाद कई बार भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भी शमसुल से पूछताछ की है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस पूछताछ में शमसुल हुदा ने भारतीय रेल को निशाना बनाने के पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ बताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.