वाराणसी पिछले सात बार से दक्षिणी वाराणसी सीट पर विधायक रहे बीजेपी नेता श्यामदेव राय चौधरी ने कहा है कि वाराणसी की सभी 8 विधानसभा सीटों पर बीजेपी की स्थिति खराब है और उसे सपा-कांग्रेस गठबंधन और बीएसपी से कड़ी टक्कर मिल रही है। श्यामदेव राय को लोग प्यार से ‘दादा’ भी बुलाते हैं, वो भाजपा से इसलिए नाराज हैं क्योंकि उन्हें इस बार दक्षिणी वाराणसी सीट से टिकट नहीं दिया गया और उनकी जगह पहली बार चुनाव लड़ रहे नीलकंठ तिवारी को टिकट दे दिया गया। हालांकि, टिकट न मिलने से नाराज श्यामदेव राय चौधरी ने यह भी कहा है कि वह दक्षिणी वाराणसी सीट से केवल बीजेपी के लिए प्रचार-प्रसार करेंगे न कि पार्टी के उम्मीदवार नीलकंठ तिवारी के लिए। Shyamdev rai competition for bjp.

 

श्यामदेव को पीएम मोदी हाथ पकड़कर ले गये थे मंदिर –

श्यामदेव कहते हैं कि इस बार का चुनाव उनका अंतिम चुनाव होता। लेकिन टिकट नहीं मिलने से उन्हें काफी निराशा हुई है। शायद बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व को भी इस बात का एहसास हो गया है, इसीलिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी उनको लखनऊ बुलाकर पार्टी में कोई उच्च पद देने का आश्वासन दिया था। पीएम मोदी ने भी इस गलती को माना और शनिवार को रोड शो के दौरान काशी विश्वनाथ मंदिर जाने पर वहां मौजूद श्यामदेव राय चौधरी को अपने साथ मंदिर के अंदर हाथ पकड़कर ले गए। श्यामदेव ने माना कि प्रधानमंत्री मोदी के इस कदम के बाद उनकी नाराजगी कुछ हद तक कम हुई है।

यूपी में बीजेपी जीत के लिए आश्वस्त, ये होंगे सीएम –  

प्रधानमंत्री मोदी वाराणसी के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं और पार्टी उत्तर प्रदेश चुनावों के नतीजों को लेकर काफी हद तक आश्वस्त है और जिस तरह से पीएम मोदी पिछले दो दिनों से अपने लोकसभा क्षेत्र वाराणसी में प्रचार कर रहे हैं उससे यह बात काफी हद तक साफ हो गयी है कि यूपी में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरने जा रही है। आखिरी चरण से पहले पीएम मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पूरी ताकत झोंक दी है जिससे बीजेपी को स्पष्ट बहुमत मिलने की उम्मीद बन रही है। ‘मेल टुडे’ की रिपोर्ट के मुताबिक एक विश्वसनीय और राजनीतिक रूप से सही मुख्यमंत्री ढूंढने की पहल भी शुरू हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.