राजनीति

हम पहले भी जीरो थे, और इस बार भी जीरो हैं। इसलिए यह हमारी नहीं भाजपा की हार है – कांग्रेस

कांग्रेस नेता और पंजाब के कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी को दिल्ली चुनाव में हार नहीं मिली क्योंकि 2015 में शून्य सीट थी और अभी भी शून्य सीट है इसलिए यह भाजपा की हार है ।

उन्होंने कहा, “हम पहले भी शून्य थे, और इस बार भी हम शून्य हैं। इसलिए यह हमारी हार नहीं है। यह भाजपा के लिए एक हार है,” उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा, दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को कोई सीट नहीं मिली थी ।

2015 के विधानसभा चुनावों में भी कांग्रेस ने एक भी सीट नहीं जीती थी।

इस बीच, पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में AAP के प्रदर्शन को “घृणा और गंदी राजनीति पर विकास के एजेंडे की जीत” के रूप में बताया। 117 सदस्यीय सदन में 19 विधायकों के साथ पंजाब में आम आदमी पार्टी दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है।

चीमा ने अंग्रेजी में ट्वीट किया, “@AamAadmiParty के पक्ष में दिल्ली के सभी कार्यकर्ताओं को इस विशाल जनादेश के लिए बधाई। यह विकास के एजेंडे की जीत है।”

वैसे यह विकास की जीत थी या मुस्लिम वोटों के धुर्वीकरण से हासिल की हुई जीत थी या लोगों की उदासीनता , यह तो वक़्त ही बतायेगा। क्यों की दिल्ली के शिक्षा मंत्री महज ३००० वोटों से जीते जब की अमानतुल्लाह जैसे दंगा भड़काने वाले लोग 70 हज़ार वोटों से जीत गए ।

फेक वीडियो ट्वीट कर जामिया में बस जलाने का झूठा इलज़ाम दिल्ली पुलिस पर लगाने के वजह से मनीष सिसोदिया की बहुत थू थू हुई थी, हालांकि उन्होंने पनि ग़लती पर कभी माफ़ी नहीं मांगी और ना ही वो ट्वीट को अब तक डिलीट किये ।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में AAP ने 620सीटों पर कब्ज़ा किया जब की भाजपा 8 सीटों पर सिमट गयी

Show More

Related Articles

Back to top button
Close