अध्यात्म

20 जनवरी को है षटतिला एकादशी, जानें इसका महत्व और पूजा करने की विधि

माघ मास के कृष्‍ण पक्ष में आने वाली एकादशी को षटतिला एकादशी के नाम से जाना जाता है। ये एकादशी 20 जनवरी के दिन आ रही है। इस दिन भगवान श्रीहरि विष्‍णु की पूजा की जाती है औ व्रत रखा जाता है। इस एकादशी के दिन विष्णु जी का पूजन करते समय उन्हें तिल जरूर अर्पित किए जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस एकादशी का व्रत रखने से सारे पाप खत्म हो जाते हैं। षटतिला एकादशी की कथा, पूजन, महत्‍व और लाभ क्या है उसकी जानकारी इस तरह से हैं।

षटतिला एकादशी से जुड़ी कथा

षटतिला एकादशी से जुड़ी कथा के अनुसार एक बार दालभ्य ऋषि ने पुलस्त्य ऋषि से एक सवाल करते हुए पूछा कि पापों से किस तरह से बचा जाए और पापों के बोझ को कैसे कम किया जाए। पुलस्त्य ऋषि ने बताया कि माघ मास के दौरान रोज स्नान करने से और इस माघ के कृष्‍ण पक्ष में आने वाली एकादशी का व्रत रखने से पापों से मुक्ति मिल जाती है।

कैसे करें पूजन :-

  • षटतिला एकादशी के दिन सुबह उठकर घर की सफाई करें। सफाई करने के बाद स्नान करें। इस दिन पीले रंग के वस्त्र धारण करें।
  • विष्णु जी की पूजा करते समय उन्हें तुलसी के पत्ते और तिल जरूर अर्पित करें।
  • पूजा करने के बाद विष्णु जी के नाम का जाप पूरे दिन करें।
  • वहीं जो लोग ये व्रत रखते हैं, वो पूजा करने से पहले व्रत रखने का संकल्प जरूर लें। संकल्प लेने के लिए अपने हाथ में फूल और जल रखें और व्रत का संकल्प लें। इसके बाद ये फूल और जल धरती पर छोड़ दें।
  • रात के समय सोने की जगह जागरण करें।
  • दूसरे दिन सुबह स्नान करके विष्णु जी की पूजा करें। पूजा करने के बाद विष्णु जी से व्रत के दौरान हुई कोई भी भूल की माफी मांगे। भगवान का पूजन करते समय उन्हें खिचड़ी का भोग भी लगाएं।
  • भोग लगाने के बाद खिचड़ी खाकर अपना व्रत तोड़ दें। याद रहे की खिचड़ी में काले तिल जरूर डालें।

षटतिला एकादशी का लाभ

हर एकादशी का व्रत रखने से कोई ना कोई लाभ जरूर मिलता है। षटतिला एकादशी का व्रत रखने से और इस दिन तिल का दान करने से स्वर्ग का रास्ता खुल जाता है। इसलिए आप इस एकादशी का व्रत जरूर रखें। व्रत रखने के अलावा इस दिन नीचे बताई गई छह चीजों को जरूर करें।

1. तिल स्नान- नहाने के पानी में तिल जरूर डालें।

2. तिल का उबटन- नहाते समय तिल का उबटन लगाएं

3. तिल का हवन- हवन करते हुए उसमें तिल जरूर डालें।

4. तिल का तर्पण- तिल का तपर्ण करना ना भूलें।

5 तिल का भोजन- भोजन में तिल जरूर डालें।

6. तिलों का दान-  गरीब लोगों को तिल का दान करें।

तिल से जुड़ी ये छह चीजें करने से षटतिला एकादशी का व्रत सफल होता है और पापों से मुक्ति मिल जाती है। इसलिए आप ये व्रत जरूर करें। वहीं इस दिन तुलसी और पीपल के पेड़ की पूजा भी जरूर करें और इनके सामने सरसों के तेल का दीपक जरूर जलाएं।

Back to top button