ब्रेकिंग न्यूज़

लखनऊ -नोएडा में हुआ कमिश्नरी सिस्टम लागू, अब कमिश्नर के अंडर होगी 56 अफसरों की फौज

उत्तर प्रदेश के दो जिलों में आज से कमिश्नरी सिस्टम लागू किया गया है। ये सिस्टम लखनऊ और नोएडा जिले में लागू हुआ है और इस सिस्टम के तहत पुलिस कमिश्नर के अंडर 56 अफसरों की फौज होगी। इन अफसरों पर लखनऊ और नोएडा में कानून व्यवस्था सही बनाए रखने की जिम्मेदारी होगा। सोमवार को कमिश्नरी सिस्टम को लागू किया गया है और इस कमिश्नरी सिस्टम के तहत आलोक सिंह को नोएडा और  सुजीत पांडेय को लखनऊ का कमिश्नर नियुक्त किया गया है। इस सिस्टम को लागू करने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, प्रदेश में कमिश्नरी सिस्टम उन जिलों में लागू किया गया है जहां पर रहने वाले लोगों की आबादी 10 लाख से ज्यादा है। आपको बता दें कि इस वक्त लखनऊ में 29 लाख लोगों की आबादी है, जबकि नोएडा जिले में 25 लाख लोग रहा करते हैं। इस नियम के तहत पुलिस कमिश्नर के अंडर में 56 अफसरों होगी और इन सभी अफसरों को इलाके की कानून व्यवस्था को सही बनाए रखना होगा।  उन्होंने कहा कि कैबिनेट ने पुलिस आयुक्तालय प्रणाली के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है, जो राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी के कारण दशकों से लंबित था। इस फैसले से राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति में सुधार होगा।

इस सिस्टम के लागू होने से लखनऊ और नोएडा में पुलिस प्रशासन की व्यवस्था बदल जाएगी। जहां पहले हर जिले में सीनियर एसपी (एसएसपी) पुलिस विभाग के हेड हुआ करते थे अब इनकी जगह सीनियर स्तर के अधिकार यानी एडीजी (ADG) को कमिश्नर नियुक्त किया जाएगा। इतना ही नहीं पुलिस कमिश्नर के साथ 2 अतिरिक्त पुलिस आयुक्त भी होंगे जो कि आईजी रैंक के अफसर होंगे।

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के कमिश्न के अंडर  9 एसपी रैंक के अधिकारी भी होंगे। जिनमें से एक महिला एसपी रैंक की अधिकारी होगी, जो कि महिला सुरक्षा के लिए तैनात की जाएगी। वहीं एसपी एडिशनल कमिश्नर एसपी रैंक के अधिकारियों को जिले के यातायात को सही बनाए रखने की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। पुलिस कमिश्नर को इस सिस्टम के तहत मजेस्ट्रेटियल अधिकार भी दिया गया है।

इलाके में लगाए जाएंगे सीसीटीवी कैमरे

निर्भया फंड का इस्तेमाल कर शहर भर में अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ताकि पुलिस को लोगों पर नजर रखने में आसानी हो और किसी भी वारदात को होने से रोका जा सके।

की जा रही है तारीफ

योगी आदित्यनाथ के इस कदम की तारीफ हर कोई कर रहा है। उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी बृजलाल ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया और सीएम योगी आदित्यनाथ के इस कदम को सही बताया है। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में हर दिन कोई ना कोई क्राइम होता रहता है और इस राज्य में होने वाली इन्ही वारदातों को रोकने के लिए योगी सरकार द्वारा ये कदम उठाया गया है। उम्मीद की जा रही है कि इस फैसले से लखनऊ और नोएडा में होने वाली वारदातों को काफी हद तक कम किया जा सके।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close