अध्यात्म

इस बार 15 जनवरी को है मकर संक्रांति, जानें शुभ मुहूर्त और राशियों पर क्या होगा इसका असर

इस वर्ष मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी के दिन आ रहा है। मकर संक्रांति के दिन पवित्र नदी में स्नान किया जाता है। स्नान करने के बाद मंदिर में खाने की चीजें चढ़ाई जाती हैं और गरीब व्यक्ति को दान दिया जाता है। मकर संक्रांति का पर्व सूर्य भगवान से जुड़ा हुआ पर्व है। इसलिए इस दिन सूर्य देव की पूजा की जाती है। इस पर्व को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। उत्तर भारत में जहां इसे मकर संक्रांति कहा जाता है, वहीं गुजरात में इस पर्व को उत्तरायण के नाम से जाना जाता है। जबकि दक्षिण भारत में इस पर्व को पोंगल कहा जाता है। मकर संक्रांति 2020 का शुभ मुहूर्त और इस पर्व को किस तरह से मनाया जाता है। इसकी जानकारी इस प्रकार से है।

मकर संक्रांति 2020 का शुभ मुहूर्त

14 जनवरी की रात को सूर्य धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करेंगे और अगले दिन मकर संक्राति का पर्व मनाया जाएगा। मकर संक्राति का पर्व पुण्यकाल सुबह 07:19 से शुरू हो जाएगा। जो कि 12:31 बजे तक रहेगा। 07:19 से 09:03 बजे तक का समय स्नान करने और दान करने के लिए बेहद ही शुभ होगा। इसलिए आप इस दौरान स्नान करके, सूर्य देव की पूजा करें और वस्तुओं का दान करें।

संक्रांति के दिन सर्वाथ सिद्धि व रवि, कुमार योग का संयोग भी बन रहा है और ये योग बेहद ही शुभ माने जाते हैं हैं। जिसके चलते आप मकर संक्रांति के दिन मांगलिक कार्य भी कर सकते हैं।

राशियों पर पड़ेगा प्रभाव

धनु राशि से निकलकर मकर राशि में सूर्य देव के प्रवेश करने राशियों पर भी प्रभाव पड़ेगा। किस राशि पर इस सूर्य देव के इस परिर्वतन का क्या असर देखने को मिलेगा उसका जानकारी इस तरह से है।

मेष राशि- धन लाभ होगा
वृष राशि-  यश लाभ होगा
मिथुन राशि- खर्चें बढे़गा
सिंह राशि- खुशियां मिलेंगी और घर में शांति बनीं रहेगी
तुला राशि-  धन लाभ होगा
वृश्चिक राशि- किसी विवाद का सामना करना पड़ सकता है
धनु राशि-  नौकरी में प्रमोशन हो सकता है
मकर राशि-  नया वाहन खरीद सकते हैं
कुंभ राशि-  मान- सम्मान
मीन राशि-  तनाव का सामना करना पडड सकता है

इस तरह से मनाएं मकर संक्रांति का पर्व

  • मकर संक्रांति के दिन सुबह उठकर सबसे पहले पवित्र नदी में स्नान करें या नहाने के पानी में गंगा जल मिलाकर नहाएं।
  • नहाने के बाद सूर्य देव की पूजा करें और उन्हें अर्घ्य दें। अर्घ्य देते समय सूर्य देव के नामों का जाप करें।
  • अर्घ्य देने के बाद मंदिर में काली दाल, चावल, आटा, गुड और इत्यादि चीजें चढ़ाए। मंदिर में ये चीजें चढ़ाने के बाद इन्हीं सब वस्तुओं को गरीब लोगों को भी दान करें।
  • इस दिन खिचड़ी खाना अच्छा माना जाता है। इसलिए आप मकर संक्रांति के दिन सुबह घी के साथ खिचड़ी जरूर खाएं।

मकर संक्रांति के दिन करें मांगलिक कार्यों

मकर संक्रांति के दिन आप मांगलिक कार्य भी कर सकते हैं। इस दिन विवाह, गृह प्रवेश, नया वाहन, भवन बनाना, मुंडन जैसे शुभ कार्य करना उत्तम माना जाता है। इसलिए अगर आप कोई शुभ कार्य करने जा रहे हैं तो उसे मकर संक्रांति के दिन कर सकते हैं।

Back to top button
?>