नई दिल्ली – आरबीआई द्वारा 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों की वैधता समाप्त करने के बाद अब सरकार ने वापस अपना ध्यान 1000 के नए नोट छापने पर केन्द्रित कर दिया है। मोदी सरकार के निर्देश पर आरबीआई ने 1000 रुपये का नये नोट पर्याप्त संख्या में छाप लिये हैं। बस जारी करने के लिए मोदी सरकार के ऐलान कि देर है। सरकार से अभी इन्हें जारी करने के निर्देश नहीं मिले हैं। 1000 के नये नोट अलग डिजाइन और पहले ज्यादा सिक्योरिटी मापदंडों के साथ छापा गया है। मीडिया की ख़बरो के मुताबिक पहले 1000 के नए नोटों को जनवरी में जारी किया जाना था। लेकिन 500 रुपये की आपूर्ति करने के लिए 1000 के नये नोटों की जारी करने की तारीख टाल दी गयी थी। Rbi introduce new 1000 rupee currency.

नए अवतार में 1000 का नोट लाने की तैयारी –

Rbi introduce new 1000 rupee currency

रिजर्व बैंक और केन्द्र सरकार ने 1000 रुपये के नए नोट जारी करने की पूरी तैयारियां कर ली है। प्रमुख न्यूजपेपर की ख़बर के मुताबिक केन्द्र सरकार के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि नोटबंदी के बाद प्रतिबंधित हुए 500 और 1000 रुपये की करेंसी की जगह नई 1000 रुपये की करेंसी बाजार में वापस आ जाएगी। सूत्रों के अनुसार रिजर्व बैंक ने 1000 रुपये की नई करेंसी की प्रिंटिंग का काम भी शुरू कर दिया है।

सूत्रों से इस बात का भी खुलासा हुआ है कि पहले केन्द्र सरकार और रिजर्व बैंक की योजना थी कि 500 और 1000 रुपये की नई करेंसी को एक साथ जारी किया जाए, लेकिन 8 नवंबर के बाद 2000 रुपये की करेंसी जारी होने के बाद बवाल को देखते हुए रिजर्व बैंक और सरकार ने 500 रुपये की करेंसी को जल्द जारी कर दिया।

1000 रुपये के नोट में क्या होगा खास –

Rbi introduce new 1000 rupee currency

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जल्द ही जारी किये जाने वाले 1000 रुपये के नए नोट को लेकर आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक 1000 रुपये की नई करेंसी को जारी करने की तारीख पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक ने बेहतर सुरक्षा फीचर्स और मंगलयान की फोटो से वाले 2000 रुपये और 500 रुपये की नई करेंसी जारी की है। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि बाजार में उतारी जाने वाली नई 1000 रुपये की करेंसी में भी ऐसे ही सुरक्षा मापदंड के साथ मंगलयान की फोटो भी देखने को मिलेगी।

गौरतलब है कि पीएम मोदी द्वारा 8 नवंबर, 2016 को विमुद्रीकरण के फैसला के बाद 500-1000 रुपए के पुराने नोटों को बंद कर दिया गया था। नए नोट छपने में काफी समय लग रहा था, इसलिए आरबीआई ने एटीएम से हर दिन और साप्‍ताहिक रुपए निकालने की सीमा तय कर दी थी। लेकिन पर्याप्‍त मात्रा में नोट न छपने के कारण अधिकतर बैंकों के बाहर लंबी-लंबी लाइनें लग गई थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.