बदल रहा हो हथेली का रंग तो हो जाएं सावधान, बिगड़ती तबियत के राज खोल देती हैं हथेलियां

अगर तबियत खराब हो तो उसका संकेत आप पहले ही जान सकते हैं। खराब तबियत का असर शरीर पर देखने को मिल जाता है, लेकिन जो बात आपका चेहरा नहीं बता पाएगा वो बात आपकी हथेलियां बता देती हैं। हथेलियों का बदलता रंग बताता है कि आपकी तबियत सही नहीं है और आपको सावधान होने की जरुरत है। इम्यूनिटी कमजोर होना या लिवर से जुड़ी कई समस्या हो तो हथेली के रंग से आप जान सकते हैं। हालांकि ये संकेत है इसलिए किसी भी नतीजे पर पहुंचने से पहले डॉक्टर को दिखा लेना ही सही होगा। ग़ौरतलब है कि कोलंबिया एशिया अस्पताल के कंसल्टेंट इंटरनल मेडिसीन डॉ. दीपक वर्मा ने बताया है कि हथेलियों से आप सेहत के बारे में कैसे जान सकते हैं।

लाल हथेली होना

अगर हाथों को कस कर रगड़ेंगे तो कुछ देर के लिए वो लाल हो जाएंगी, लेकिन धीरे धीरे अपने सामान्य रंग में भी आ जाती हैं। वहीं अगर आपकी हथेली अक्सर ही लाल रहती है तो ये सही बात नहीं है। हथेली के हमेशा लाल रहने का मतलब है की आपके लिवर में कोई समस्या है। अगर आपको हाथ पर लाल धब्बे के निशान दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि जिनकी उम्र 50 से ज्यादा होती है उनमें ये समस्या अधिक होती है। वहीं प्रेग्नेंट औरतों में ब्लड प्रेशर बढ़ने से भी हथेलियों पर तनाव आ जाता है।

हथेली पर पसीना बने रहना

कुछ लोगों की हथेली हमेशा पसीने से भीगी रहती है। ऐसे लोगों से लोग हाथ मिलाने में भी कतराते है। ये कोई सामान्य बात नहीं है। बहुत ज्यादा तनाव या बढ़े हुए थॉयराइड के कारण भी हथेली पर पसीना ज्यादा आता है। बहुत कम स्थितियों में ही ये सामान्य बात होती है जैसे अधिक गर्म मौसम होना या गर्मी में रहने के कारण ऐसा हो सकता है। अगर हथेली पर हमेशा ही पसीना आता हो तो ये दिल के रोग, डायबटीज़, तनाव, अवसाद जैसी कई बीमारियों की ओर संकेत भी हो सकता है।

हथेली का पीला रहना

अगर आपकी हथेली पीली रहती हो तो इसे गंभीरता से लेने की जरुरत है। हथेली में पीलापन होना लिवर से संबंधित बीमारी की ओर इशारा करता है। हथेली के पीलेपन का कारण पीलिया, लिवर फाइब्रोसिस, या लिवर इंफेक्शन हो सकता है। ऐसे लोगों की पाचन क्षमता भी कमजोर होती है। ऐसे में इन लोगों को अपने खाने पीना का बहुत ध्यान रखना चाहिए। वहीं हथेली का अधिक सफेद रहना भी खून की कमी बताता है।

हाथ में कपकपाहट होना

बुजुर्ग लोगों में अक्सर आपने देखा होगा की उनके हाथ कांपते रहते हैं, ये एक उम्र के हिसाब से सामान्य है। हालांकि कई बार हाथों में कपकपाहट होना पार्किसंस रोग का संकेत देता है। ये दिमाग में मौजूद वाइटल नर्व सेल को पूरी तरह खत्म कर देता है जिससे उसे पूरी तरह से संकेत नहीं मिल पाते। आमतौर पर ये समस्या अत्यधिक तनाव लेने की वजह से होती हैं। इन संकेतों को गंभीरता से लेना बहुत जरूरी है। युवावस्था या बढ़ती उम्र में ही ऐसी समस्या को हल्के में ना लें। डॉक्टर से संपर्क करें।

Share this