जानिये कौन है सुषमा स्वराज की एक लोती बेटी बांसुरी और क्या काम करती हैं वह

सुषमा स्वराज के निधन की खबर से आज पूरा देश रो रहा हैं. 6 अगस्त रात में दिल्ली के एम्स अस्पताल में अंतिम साँसे लेने वाले सुषमा स्वराज का अंतिम संस्कार आज दोपहर 3 बजे दिल्ली के लोढ़ी Crematorium में किया गया. इस दौरान देश के पीएम नरेंद्र मोदी सहित भाजपा के कई नेता जैसे राजनाथ सिंह, अमित शाह इत्यादि मौजूद थे. सुषमा जी कि राष्ट्रिय सम्मान के साथ लाल जोड़ा पहना और तिरंगा लिपटा अंतिम बिदाई दी गई. इस अंतिम संस्कार में उनकी बेटी बांसुरी स्वराज नाम आँखों के साथ अपनी माँ को अलविदा कहते हुए नज़र आई. चुकी बांसुरी अपनी माँ की एक लोती बेटी हैं इसलिए इस अंतिम संस्कार के सभी रिवाजो को उन्ही ने संपन्न किया.

सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं. ऐसे में आज हम आपको उनसे जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं. बांसुरी स्वराज सुषमा और स्वराज कौशल की बेटी हैं. स्वराज कौशल सुप्रीम कोर्ट के एक वरिष्ठ वकील हैं. वे तीन साल के लिए (1990 से 1993) मिजोरम के गवर्नर भी रह चुके हैं. इसके अलावा वे 1998 से 2004 तक संसद भी रह चुके हैं. वर्तमान में वे भारतीय सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता हैं. उन्होंने सुषमा से साल 1975 में शादी रचाई थी. इसी शादी से उन्हें एक बेटी हुई जिसका नाम दोनों ने बांसुरी कौशल रखा.

बांसुरी अपने पिता की तरह ही एक वकील हैं. उन्होंने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय स्नातक की डिग्री हासिल की हैं. इसके बाद इनर टेम्पल से कानून में बैरिस्टर की डिग्री ली और एक जानी मानी क्रिमिनल लॉयर बन गई. बांसुरी ना सिर्फ दिल्ली के हाईकोर्ट बल्कि सुप्रीम कोर्ट में भी बतौर क्रिमिनल लॉयर केस लड़ती हैं.

बांसुरी का नाम उस समय मीडिया में सबसे ज्यादा आया था जब उन्होंने आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी के लिए कोर्ट में केस लड़ा था. उस दौरान वे ललित मोदी की लीगल टीम का हिस्सा थी. इस टीम में कुल 8 लोग (महमूद अब्दी, बांसुरी स्वराज, रोजर ग्रेसन, डॉक्टर आर मराठा, बियांका हेमरिच, वेंकटेश दोंद, अभिषेक सिंह, अंकुर चावला) शामिल थे.

बांसुरी ने मीडिया का ध्यान उस समय आकर्षित किया था, जब यह खुलासा हुआ था कि सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज IPL के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की लीगल टीम में शामिल थीं. ये नाम की लिस्ट खुद ललित मोदी ने ट्वीट कर उस समय शेयर की थी जब वे केस जित गए थे. उन्होंने अपनी लीगल टीम के सभी सदस्यों को जीत की बधाई दी थी. इसमें सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी भी शामिल थी. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ये केस 27 अगस्त 2014 में हाईकोर्ट के द्वारा ललित मोदी के पासपोर्ट पर लगे बैन को लेकर था. ललित मोदी का केस लड़ने की वजह से विपक्ष ने कई सवाल भी उठाए थे हालाँकि भाजपा का कहना था कि सुषमा स्वराज की बेटी एक प्रोफ़ेसनल वकील हैं. ये उसका पेशा हैं. वो किसका केस लड़ती हैं ये उसकी निजी राय और आज़ादी हैं.

सुषमा के परिवार की बात की जाए तो उसमे बेटी और पति को छोड़ उनका एक भाई, एक बहन और माता पिता हैं. सुषमा स्वराज के पिताजी का नाम हरदेव शर्मा जबकि माताश्री का नाम लक्ष्मी देवी था. उनका भाई गुलशन शर्मा एक अर्युदेव डॉक्टर हैं. वहीं बहन वंदना शर्मा हरियाणा के एक कॉलेज में बतौर प्रोफ़ेसर काम करती हैं.