समाचार

पाकिस्तान में रोटी के लिए मचा हाहाकार, इमरान खान को बुलानी पड़ी ‘हाई लेवल’ की मीटिंग

गधे और भैंस बेचकर नए पाकिस्तान की कल्पना करने वाले इमरान खान को अब रोटी के लिए हाई लेवल की मीटिंग बुलानी पड़ रही है। जी हां, इमरान खान ने जिस अंदाज में पीएम पद की शपथ ली थी और उसके बाद नया पाकिस्तान बनाने का सपना बुना था, वह तो चंद महीने में ही बिखर गया। दरअसल, नया पाकिस्तान की बात तो छोड़ ही दीजिए साहेब…यहां तो पुराना पाकिस्तान ही रोटी रोटी के लिए मोहताज हुआ पड़ा है। इतना ही नहीं, पाकिस्तान की आवाम महंगाई के दलदल में इतनी ज्यादा फंस गई है, जिसके आगे उसे कोई उम्मीद नज़र नहीं आ रही है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

नकदी संकट से जूझ रही पाक सरकार ने रसोई गैस दरों का फैसला किया, ताकि पाकिस्तान की हालत थोड़ी सुधर सके, लेकिन इमरान खान आने वाले संकट से बिल्कुल अंजान थे, जिसका खामियाज़ा उन्हें हाई लेवल की मीटिंग बुलाकर भुगतना पड़ा। परिणामस्वरुप, अब पाकिस्तान की जनता रोटी रोटी के लिए मोहताज होती हुई नज़र आ रही है। हालांकि, अपने देश को इस संकट से उबारने के लिए इमरान खान ने हाई लेवल की मीटिंग की तो लेकिन उसका कोई हल नहीं मिला और इस परिस्थिति को हमारे देश में अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारना कहते हैं।

10-15 रुपये में बिक रही हैं रोटियां

रसोई गैस के दाम पर बढ़ाने के फैसले के बाद पाकिस्तान के होटलों के मालिकों ने रोटी के दाम बढ़ा दिए, जिसकी वजह अब वहां की जनता को रोटी के लिए 10 से 12 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं, तो वहीं नान के लिए 12 से 15 रुपये में मिल रहा है। यही रोटियां पहले 8 रुपये तक मिल जाती थी, लेकिन अब दाम बढ़ गए हैं, जिसकी वजह से पाकिस्तान में हाहाकार मच गया है। मामला यही नहीं थमा, बल्कि रोटी के दाम बढ़ने की वजह से शहर शहर में हंगामा हो गया और परिणामस्वरुप इमरान को हाई लेवल की बैठक बुलानी पड़ी।

लोगों ने कहा- ‘तौबा-तौबा’

रोटी के दाम कम करने के लिए मीटिंग बुलाने पर सोशल मीडिया पर लोगों ने इमरान खान का मजाक उड़ाना शुरु कर दिया। यूजर्स ने लिखा कि तौबा तौबा रोटी के लिए हाई लेवल की मीटिंग। तो वहीं कुछ लोगों ने यह भी कहा कि आप अपने सऊदी अरब से क्यों नहीं मांगते हो रोटी और साथ ही अब नया पाकिस्तान को नान पाकिस्तान कहना चाहिए। वहीं कुछ लोगों ने यह भी कहा कि अब इमरान खान को इस्तीफा दे देना चाहिए।

इंटरनेशनल बेइज्जती भी झेलनी पड़ी

नकदी संकट से जूझ रही पाकिस्तान को न सिर्फ देश में ही बेइज्जत होना पड़ रहा है, बल्कि इंटरनेशनल लेवल पर भी हाई बेइज्जती हो रही है। मतलब साफ है कि फिलहाल पाकिस्तान को न तो देश की सरकार से कोई उम्मीद नज़र आ रही है और न ही इंटरनेशनल लेवल से। हाल ही में पाकिस्तान के पीएम इमरान खान अमेरिका गए थे, जहां उन्हें कोई भी नेता लेने नहीं आया, जिसकी वजह से उनकी इंटरनेशनल लेवल पर भारी भरकम बेइज्जती हुई।

Back to top button