समाचार

धोनी ने शुरू की 15 दिन की आर्मी ट्रेनिंग, सामने आई पहली तस्वीर, जाने इस दौरान क्या काम करेंगे

महेंद्रसिंह धोनी, ये नाम सुनते ही एक रिस्पेक्ट की भावना मन में उमड़ने लगती हैं. इसकी वजह ये हैं कि धोनी एक बेहतरीन क्रिकेट प्लेयर होने के साथ साथ एक बहुत बढ़िया इंसान भी हैं. धोनी की कोशिश हमेशा यही रहती हैं कि वे इस देश का अच्छा नागरिक बनकर रहे. इस वजह से लोग उन्हें दिल से पसंद करते हैं. जैसा कि आप सभी जानते हैं धोनी इन दिनों कश्मीर में भारतीय सेना के साथ दो हफ्ते की ट्रेनिंग ले रहे हैं. ऐसे में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल एमएस धोनी ने अपनी सी ट्रेनिंग की शुरुआत कर दी हैं जो कि 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस तक चलने वाली हैं. इस दौरान धोनी दिन और रात दोनों ही शिफ्ट में ड्यूटी करेंगे. वे एक आम सैनिक की तरह अन्य सैनिकों के साथ बैरक में रहेंगे.

धोनी इस दौरान विक्टर फोर्स की पैराशूट रेजीमेंट की 106 पैरा टेरिटोरियल आर्मी बटालियन में शामिल रहेंगे. 15 दिन की उनकी ये ट्रेनिंग शुरू हुई तो गुरुवार को उनका एक फोटो भी वायरल हो गया. इस फोटो मर धोनी अपने साथ सैनिको के साथ दिखाई दिए. इस तस्वीर में उनके हाथ में एक बल्ला भी था. धोनी जिस आतंकीविरोधी यूनिट में तैनात हैं उसमे देशभर के 700 सैनिक हिस्सा ले रहे हैं.

ट्रेनिंग के दौरान ऐसे रहेंगे धोनी

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि 2011 में धोनी को सेना की टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक प्राप्त हुई थी. वर्तमान में धोनी ट्रेनिंग के दौरान 60 सैनिको के साथ एक ही बैरक में रहेंगे. दिलचस्प बात ये हैं कि ये फैसला खुद धोनी का ही था. वैसे बता दे कि धोनी की ये बटालियन अपने बतर चिकन के लिए जानी जाती हैं. इसमें हफ्ते में तीन बार चिकन परोसा जाता हैं. धोनी भी उस दौरान यही खाएंगे. इतना ही नहीं वे सैनिकों के लिए बने क्यूबिकल में स्नान भी करेंगे.

करने होंगे ये काम

अपनी उस ट्रेनिंग में धोनी पीठ पर 19 किलो का वजन लाद कर चलेंगे. इसमें 5 किलो की 3 मैगजीन, 3 किलो की वर्दी, 2 किलो के जूते, 4 किलो के ग्रेनेड, 1 किलो का हेलमेट और 4 किलो की बुलेटप्रूफ जैकेट शामिल हैं. इस 19 किलो के वजन के साथ धोनी को मुख्य रूप से ये तीन काम करने होंगे.

पहला काम: इस काम के तहत उन्हें श्रीनगर के बादामी बाग कैंट इलाके में 10 सैनिको के साथ गश्त देनी होगी. इस दौरान उनके पास एक बुलेटप्रूफ जैकेट, एक एके-47 राइफल और 6 ग्रेनेड भी होंगे. इस गस्त का मुख्य उद्देश्य लोगो से मिलना जुलना और सीक्रेट जानकारी हासिल करना हैं.

दूसरा काम: इसमें धोनी गार्ड बन सिक्यूरिटी का जिम्मा संभालेंगे. इस दौरान वे 4-4 घंटे की दो शिफ्ट करेंगे जो कि दिन और रात दोनों ही समय में होगी. दिन की ड्यूटी होने पर धोनी को सुबह जल्दी 4 बजे उठना होगा जबकि रात की शिफ्ट हुई तो वे देर से उठ सकते हैं.

तीसरा काम: इस काम में धोनी के धैर्य कि असली परीक्षा होगी. इस ड्यूटी के तहत धोनी को बंकर में बिना हिले ढुले, चुपचाप खड़े रहना हैं. इस दौरान वे लगातार आते जाते लोगो पर कड़ी नज़र रखेंगे. ऐसे में उन्हें पलके झपकने तक की फुर्सत नहीं मिलेगी. इसमें वे दो दो घंटे कि तेन शिफ्ट में काम करेंगे.

Back to top button