दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की लव स्टोरी है बेहद फिल्मी, ऐसे किया था पत्नी सुनीता को प्रपोज दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल है बेहद रोमेंटिक, ऐसे किया था अपने प्यार का इजहार

न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: प्रेम कहानी जी हां लोगों की लव स्टोरी जानने में हमको खूब मजा आता है। और वही लव स्टोरी अगर किसी जाने-माने इंसान की हो तो हर कोई उसको जानने के लिए काफी बेताब रहता है। वैसे आपने आज तक बॉलीवुड की लव स्टोरीज के बारे में काफी सुना होगा। बॉलीवुड सेलेब्स काफी रोमेंटिक होते हैं लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स की लव स्टोरी के बारे में बताएंगे जो एक जानी-मानी हस्ती तो है लेकिन बॉलीवुड की नहीं बल्कि राजनीति की। आज हम आपको उसकी राजनीतिक इंसान की लव स्टोरी के बारे में बताएंगे।

आज हम अपने इस लेख में आपको दिल्ली के सीएम केजरीवाल और उनकी पत्नी सुनीता केजरीवाल की लव स्टोरी के बारे में बताएंगे। बता दें कि इनकी लव स्टोरी किसी फिल्मी लव स्टोरी से कम नहीं हैं। बता दें कि राजनीति में अपनी पहचान बनाने वाले अरविंद केजरीवाल ना सिर्फ एक राजनेता हैं बल्कि एक रोमेंटिक इंसान भी हैं। उन्होंने सुनीता को ना सिर्फ प्रपोज किया था बल्कि उनको शादी के लिए भी झट से रेडी कर लिया था। तो चलिए आज आपको बताते हैं अरविंद केजरीवाल और सुनीता की प्यारी सी लव स्टोरी के बारे में।

बता दें कि अरविंद और सुनीता की लव स्टोरी की शुरूआत आईआरएस ट्रेनिंग के दौरान शुरू हुई थी। भारतीय राजस्व सेवा की परीक्षा पास करने के बाद अरविंद और सुनीता दोनों ही नागपुर स्थित राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी में पहली बार मिले थे। वहां पर उनकी वो मुलाकातें कब प्यार में तब्दील हो गई उनको पता ही नहीं लगा। दोनों काफी वक्त साथ में ही बिताते थे और दोनों एक-दूसरे के बहुत ही अच्छे दोस्त थे। लेकिन अरविंद अपने दिल की बात सुनीत को बता नहीं पा रहे थे। लेकिन बाद में कई महीनों बाद उन्होंने सुनीता के सामने अपने प्यार का इजहार किया और सुनीता ने भी हां कर दी।

एक बार मीडिया से बात करते हुए उन्होंने बताया था कि, ‘एक दिन अकादमी में मैंने उनके दरवाजे पर दस्तक दी और उनके सामने प्रेम प्रस्ताव रख दिया.’ दिल की बात अपने हमसफर के सामने रखने से पहले केजरीवाल ने कभी सोचा भी नहीं था कि सुनीता उन्हें तुरंत हां कर देंगी। उन्होंने कहा कि जैसे ही उन्होंने सुनीता को प्रपोज किया उन्होंने झट से उन्हें इस रिश्ते के लिए हां कर दिया।

बता दें कि सुनीता को एक ऐसा ही हमसफर चाहिए था जो साफ दिल का साहसी और निष्पक्ष हो। इसके साथ ही वो देशसेवा को भी प्राथमिकता दे और ये सभी गुण उनको अरविंद केजरीवाल में दिखाई दिए। क्योंकि दोनों की जाति भी एक ही थी तो उन दोनों के परिवार को भी उनके रिश्ते से किसी तरह की परेशानी नहीं हुए और वो इनके रिश्ते के लिए राजी खुशी मान गए।

साल 1994, अगस्त में अरविंद केजरीवाल और सुनीता की सगाई हुई और साल साल 1994 में आईआरएस के प्रशिक्षण के दौरान ही दोनों ने शादी कर ली। और अपना प्रशिक्षण पूरा करने के बाद दोनों दिल्ली आ गए। अरविंद केजरीवाल और सुनीता के दो संताने हैं हर्षिता और पुलकित।