नई दिल्ली – उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर तैयारियां जोरो पर हैं। समाजवादी पार्टी में चल रहे दंगल कि वजह से इस बार अन्य पार्टीयों को काफी फायदा होता दिख रहा है। सभी पार्टीयां पूरे जोर शोर से तैयारियों में लगी हुई हैं। ऐसे में ज्योतिष कि बात होना तो लाजमी है। चुनावों में जीत के लिए ग्रह- नक्षत्रों का भी ध्यान तो रखा ही जाता है। ज्योतिषों की राय यह है कि इस बार यूपी में बीजेपी अच्छा प्रदर्शन करेगी। देश के जाने माने ज्योतिषों ने ग्रहों और नक्षत्रों की गणना करके यह भविष्वाणी कि है की आगामी चुनावों उत्तर प्रदेश में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन कर सामने आएगी। पीएम मोदी का राजयोग बरकरार है और पीएम इस बार फिर अपने सारे विरोधियों को धुल चटा देंगे। Assembly elections in 5 states.

उत्तर प्रदेश पर होगी बीजेपी की विराट फतह –

ज्योतिषियों के अनुसार मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की कुंडली में जन्मकालीन चंद्रमा और गोचर कालीन शनि में ज्यादा दूरी होने के कारण सत्ता में वापसी का योग लगभग न के बराबर हैं जबकी मायावती दूसरे नंबर पर रह सकती हैं। ज्योतिषियों के मुताबिक पंजाब चुनाव में अरविंद केजरीवाल के ग्रहों की चाल ठीक नहीं है और कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह का राजयोग दिख रहा है। शनि की ढैय्या के कारण पंजाब में केजरीवाल तीसरे नंबर पर रह सकते हैं। ज्योतिषियों ने यह भी कहा है कि अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प और पीएम मोदी की कुंडली में बहुत समानताएं हैं। ज्योतिषियों का मानना है कि शनि और गुरु दोनों का संयुक्त गोचरीय असर होने से दोनों का यश और सम्मान बढ़ेगा। ज्योतिषियों के मुताबिक पांच राज्यों के चुनाव में पीएम मोदी का कद और बढ़ेगा।

कहां किससे है मुकाबला –  

यूपी में समाजवादी पार्टी जहां दोबारा सत्ता हासिल करने के लिए जोर लगा रही है वहीं बीजेपी भी यूपी की सत्ता पर काबिज होने के लिए पूरा जोर लगा रही है। यूपी में सत्तरूढ सपा बीजेपी और बीएसपी अकेले दम पर चुनावी मैदान में हैं। पंजाब में अकाली-भाजपा गठबंधन का मुकाबला कांग्रेस से है लेकिन आम आदमी पार्टी भी चुनाव मैदान में अपनी किस्मत आजमा रही है। हालांकि राजनीतिक पंडित पंजाब के विधानसभा चुनाव को आप की वजह से त्रिकोणीय मान रहे हैं। गोवा में बीजेपी और कांग्रेस के बीच होने वाले मुकाबले में इस बार आम आदमी पार्टी भी कुद पड़ी है। उत्तराखंड में बीजेपी और कांग्रेस के अलावा कई और दल भी चुनावी मैदान में हैं। मणिपुर में भी सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बनी इरोम शर्मिला चुनावी मैदान में उतरने का ऐलान कर चुकी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Content is protected !!