हिन्दी समाचार, News in Hindi, हिंदी न्यूज़, ताजा समाचार, राशिफल

नीतीश कुमार के भोज में बीजेपी को न्योता, बिहार में सियासी हलचल बढ़ी !

मकर संक्रांति के पर्व पर बिहार में एक और राजनैतिक बदलाव की सुगबुगाहट हो गई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के नेता के घर पर भोज रखा गया है जिस भोज में फ़िलहाल दो अलग अलग धुरी साथ आती नजर आ रही है.

दरअसल मकर संक्रांति (खिचड़ी) के उत्सव पर पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार में चूड़ा-दही खाने की परम्परा है इस सन्दर्भ में सीएम नीतीश कुमार हर साल भोज का आयोजन कराते हैं और अपने सभी सियासी सहयोगियों के साथ चूड़ा-दही खाते हैं. इस साल सीएम नीतीश कुमार ने भोज में बीजेपी को भी न्योता भेजा है.

फिर साथ आ सकती हैं जेडीयू और बीजेपी :

बीते चार साल से बीजेपी और जदयू में खटास है, लोकसभा चुनाव के लिये सीएम कैंडिडेट ना चुने जाने पर नीतीश ने बीजेपी का साथ छोड़ कर महागठबंधन किया था और तथाकथित समाजवादी सिद्धांत पर चलने वाली पार्टियों के साथ आ गये थे. लेकिन पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले के बाद से ही सीएम नीतीश कुमार बदले बदले से लग रहे हैं. अब नीतीश पीएम मोदी की तारीफ भी करने लगे हैं.

कांग्रेस की नाराजगी से जेडीयू बेफिक्र:

वहीँ बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी ने जदयू पर सवाल उठाते हुये कहा कि बीजेपी को भोज पर क्यों बुलाया गया, ये तो जदयू नेता ही बताएँगे, पिछले दो साल से तो बीजेपी को न्योता नहीं भेजा जाता था, लेकिन ऐसी क्या बात हो गई कि बीजेपी को भी निमंत्रण भेजा गया है, निमंत्रण में जाने की बात को टालते हुये उन्होंने कहा कि उस दिन मुझे किसी काम से बाहर जाना है.

बीजेपी को न्योता भेजने से कांग्रेस नाराज:

फ़िलहाल सीएम नीतीश के भोज में बीजेपी को न्योता देने से कांग्रेस नाराज दिख रही है, और कांग्रेस के नेता भोज से किनारा करते दिख रहे हैं. इस बात पर जदयू के एक नेता से दो टूक कहा कि कांग्रेस के नेता अगर आते हैं तो स्वागत करेंगे लेकिन और अगर नहीं आते तो कोई बात नहीं.

जेडीयू का यूटर्न:

जदयू के इस कदम को बिहार की राजनीति में सियासी यूटर्न के तौर पर देखा जा रहा है. गौर करने वाली बात यह है कि नोटबंदी के बाद से पीएम मोदी और नीतीश कुमार नजदीक आते नजर आ रहे हैं. बताया जा रहा है कि बिहार में शराबबंदी के मसले पर लालू यादव और नीतीश कुमार दो अलग अलग धुरी पर खड़े हैं और लालू यादव सिर्फ अपने दोनों बेटों के सियासी करियर के लिये नीतीश कुमार के फैसलों पर चुप बैठे हैं.

DMCA.com Protection Status