ये आदतें जिन्हे हम समझते हैं खराब वास्तव में वो हमारे स्वास्थ्य के लिए हैं बेहद फायदेमंद दूसरों पर चिल्लाने की आदत हो जाती है जिसे बेहद ही ज्यादा खराब माना जाता है लेकिन आपको जानकर यकीन नहीं होगा कि मनोवैज्ञानिक का कहना है कि ऐसा करने से तनाव कम होता है

हममें से कई लोग ऐसे होते हैं जिनकी अपनी अलग ही आदत होती है, वहीं बात करें कुछ लोगों की तो उनकी आदतें ऐसी होती है जिससे हर कोई परेशान हो जाता है अब तो आप भी समझ गए होंगे कि हम आखिर कैसी आदतों के बारे में बात कर रहे हैं, दरअसल कुछ लोगों में कई आदतें ऐसी होती है जो देखने में गंदी लगती है और अक्सर इसे लोग नापसंद करते हैं पर आपको जानकर हैरानी होगी कि वो आदतें जिन्हे आप आज तक गंदा समझते आ रहे थें वो कहीं न कहीं आपके स्वास्थ के लिए लाभदायक भी होता है। जी हां आज हम आपको कुछ ऐसे ही आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं।

1. गॉसिप या फिर चुगली करना

जी हां कई लोगों को आपने देखा होगा कि वो चुगली करने में काफी दिलचस्पी रखते हैं और खासकर इसमें लड़कियां व महिलाएं खूब माहिर होती हैं। दरअसल वैसे देखा जाए तो इसे हम सभी बुरी आदत मानते हैं लेकिन मनोवैज्ञानिक इस बात से सहमत नहीं है, जी हां क्योंकि उनका कहना होता है कि चुगली करने से आपका रिश्ता आपके दोस्तों के साथ और मजबूत होता है। इसके अलावा ये व्यक्ति का स्ट्रेस लेवल भी कम करता है।

2. कमरे को गंदा रखने की आदत

आमतौर पर ये आदते लड़कों के अंदर देखने को मिलती है क्योंकि वो साफ सफाई पर बेहद कम ध्यान देते हैं जिसकी वजह से वो अपने कमरे गंदे रखते हैं, पर कई बार ये आदतें लड़कियों के अंदर भी देखने को मिल जाता है ऐसे लोगों को हम सभी आलसी समझते हैं। लेकिन आपको ये भी बता दें कि ऐसे लोग बेहद ही ज्यादा क्रिएटिव किस्म के होते हैं जो आगे चलकर विज्ञान के क्षेत्र में अपना नाम रोशन करते हैं।

3. चिंगम चबाना

वैसे देखा जाए तो ये कोई बुरी आदत में ही आता है लेकिन ये बात सच है कि चिंगम चबाने से हमारा स्ट्रेस लेवल कम होता है और तो और बताया जाता है कि इससे हमारी याददाश्त भी बढ़ती है।

4. चीखना और चिल्लाना

कई लोगों को तो टेंशन होने पर दूसरों पर चिल्लाने की आदत हो जाती है जिसे बेहद ही ज्यादा खराब माना जाता है लेकिन आपको जानकर यकीन नहीं होगा कि मनोवैज्ञानिक का कहना है कि ऐसा करने से तनाव कम होता है और ये तनाव कम करने का बहुत अच्छा उपाय मानना जाता हैं।

5. सोशल मीडिया की लत

 

अपने देखा होगा की आजकल ना सिर्फ युवाओं में बल्कि बच्चों और यहाँ तक बुजुर्गों में भी सोशल मीडिया का काफी तगड़ी लत लग रही है जिसकी वजह से कई बार उन्हे खरी खोटी भी सुनानी पड़ती है। मगर आपको बता दे की सोशल मीडिया की लत लगना जहां एक तरफ बुरा माना जाता है वहीं दूसरी ओर मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि ये अकेलापन दूर करने का सबसे अच्छा माध्यम है, इससे व्यक्ति कभी अकेला नहीं महसूस करता है।

6. देर तक सोना

आमतौर पर जो लोग देर तक सोते हैं उसे हम सभी आलसी समझते हैं लेकिन शायद आपको पता नहीं होगा कि एक सर्वे में पता चला है कि देर तक सोने से स्ट्रोक और हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।