IT ने किया अलर्ट, इस तरह के मैसेज और मेल से रहें दूर, वरना मिनटों में खाली हो जाएगा बैंक खाता जानिए क्या है फिशिंग मेल जो कर सकते हैं आपको एकदम कंगाल

आयकर विभाग की और से एक अलर्ट जारी किया गया है जिसमें लोगों को फ्रॉड ई-मेल और फोन से सतर्क रहने को कहा गया है। आयकर विभाग की और से जारी किए गए इस अलर्ट में टैक्सपेयर्स को फंड के फेक मैसेज से बचने की सलाह दी हुई है और कहा गया है कि अगर उनके पास फर्जी ई-मेल (फिशिंग मेल) या एसएमएस आता है तो वो इसके झांसे में ना आएं। आयकर विभाग ने अपनी  वेबसाइट  www.incometaxindia.gov.in पर इस सूचना को जारी किया है और लोगों को सावधान रहने को कहा है।

सांझा ना करें जानकारी

आयकर विभाग के अनुसार अगर टैक्सपेयर्स को कोई फर्जी ई- मेल, एसएमएस या फोन कर उनसे उनके क्रेडिट, डेबिट कार्ड नंबर, ओटीपी और अन्य तरह की बैंक से जुड़ी जानकारी मांगी जाए तो वो किसी भी तरह की जानकारी को सांझा ना करें और इन ई-मेल या एसएमएस का जवाब ना दें। आयकर विभाग की और से जारी की गई इस सूचना में साफ कहा गया है कि इनके विभाग की और से कभी भी टैक्सपेयर्स से उनके बैंक अकाउंट से जुड़ी जानकारी नहीं मांगी जाती है और अगर टैक्सपेयर्स के  पास कोई ई-मेल आयकर विभाग के नाम पर आता है तो वो फर्जी होगा।

गौरतलब है कि आजकल ऑनलाइन के जरिए कई तरह के फर्जीवाड़े किए जा रहे हैं और लोगों से ई-मेल (फिशिंग मेल) या फोन के जरिए उनकी बैंक से जुड़ी जानकारी मांगी जा रही है। इन जानकारी को सांझा करने से लोगों के बैंक अकाउंट को मिनटों में खाली कर दिया जाता है। ऐसे में लोगों को इन तरह के फर्जीवाड़े से काफी सावधान रहने की जरूरत है।

इस तरह से पहचाने  फिशिंग मेल को

आयकर विभाग के मुताबिक किसी भी  टैक्सपेयर्स से आयकर विभाग उनके बैंक अकाउंट नंबर से जुड़ी निजी जानकारी नहीं मांगता है। लेकिन अगर फिर भी लोगों के पास कोई  ई मेल आता है तो वो उसका जवाब ना दें। क्योंकि ये मेल फिशिंग मेल हो सकता है।

कैसे पहचाने फिशिंग मेल को

आयकर विभाग के अनुसार अगर आपके पास कोई ई-मेल आता है तो ये आसानी ये पता किया जा सकता है कि वो फर्जी है कि नहीं। फिशिंग मेल का पता करने के लिए आप बस ई-मेल के डोमेन नेम को पढ़ें और अगर उस ई- मेल में आपको आयकर विभाग या अन्य तरह के नामों की स्पेलिंग गलत मिलती है तो वो फिशिंग मेल होता है। इसी तरह से ई- मेल का हेडर गलत होने पर भी आप समझ जाएं की वो मेल फर्जी हैं।

फिशिंग मेल आने पर क्या करें?

अक्सर फिशिंग मेल के साथ लोगों को अटैचमेंट या फिर कोई लिंक भेजा जाता है और अगर आपको लगता है कि आपके पास आया ई-मेल फर्जी है तो आप मेल के साथ भेजे गए लिंक या अटैचमैंट को ना खोंले। क्योंकि इनके अंदर मैलिशियस कोड हो सकता है और जब आप लिंक पर क्लिक करते हैं तो आपकी  बैंक अकाउंट, क्रेडिट,डेबिट और इनकम टैक्स डिटेल्स आसानी से हैकर के पास जा सकती है। इसलिए इन ई-मेल के साथ आए लिंक को खोलने से बचें।