विशेष

पत्नी से संबंध बनाने के बाद जीवनभर इस बात को लेकर परेशान रहे गांधीजी, खुद को नहीं कर सके माफ

मोहनदास करमचंद गांधी जी को हमारे देश के राष्ट्रपिता के तौर पर जाना जाता है. अंग्रेज़ों से मुक्ति दिलाने में गांधी जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है. गांधी जी ने अहिंसा के रास्ते पर चलकर हम सबको अंग्रेज़ों से आज़ादी दिलाई. इस बात से केवल भारतवासी ही नहीं बल्कि अंग्रेज़ भी वाकिफ हैं. यूं तो गांधीजी के ऊपर अनेकों किताबें लिखी गयीं हैं और कई फिल्में बनाई गयी हैं. लेकिन गांधीजी के ऊपर एक ऐसी किताब लिखी गयी थी जिसने दुनियाभर में बवाल मचा दिया था. कई लोगों ने तो इस किताब में लिखी बातों को सिरे से नकार दिया था तो कुछ लोग इन बातों को सच मानते है.

जेड एडमस ने लिखी गांधीजी के ऊपर किताब

गांधीजी के ऊपर लिखी गयी इस किताब को ‘गांधी नेकेड एम्बिशन’ के नाम से जाना जाता है. यह किताब साल 2010 में रिलीज़ हुई थी. इस किताब का टाइटल ही बवाल मचाने के लिए काफी था. लेकिन हम आपको बता दें कि किताब का एक-एक हर्फ़ विवादों से भरा हुआ था. इस किताब में गांधीजी के सेक्सुअल लाइफ को लेकर काफी सारे खुलासे किये गए हैं. यह किताब जेड एडमस ने लिखी थी. उनकी लिखी इस किताब में कितनी सच्चाई है ये तो वो ही बता सकते हैं. उनकी इस किताब के अनुसार गांधीजी की सेक्स लाइफ बहुत उतार-चढ़ाव वाली थी. आईये जानते हैं क्या लिखा था उन्होंने इस कंट्रोवरशल किताब में.

सत्याग्रह कर अपनाया अहिंसा के मार्ग को

लेखक के हिसाब से गांधी न केवल राजनीतिक लीडर थे बल्कि आज़ादी की लड़ाई में एक अध्यात्मिक लीडर भी थे जिन्होंने सत्याग्रह कर अहिंसा के मार्ग को अपनाया था. एडमस के अनुसार गांधी जी कई महिलाओं के साथ नग्न अवस्था में नहाया करते थे. वह निर्वस्त्र होकर महिलाओं से मालिश भी करवाया करते थे. वह ऐसा इसलिए करते थे ताकि दृढ़इच्छा और सहनशीलता को परख सकें.

इस बात का रहा जीवनभर पछतावा

इस किताब में गांधीजी की पत्नी कस्तूरबा गांधी पर भी कई खुलासे किये गए हैं. किताब के अनुसार गांधीजी को अपनी पत्नी के साथ एक बार किये गए सेक्स को लेकर पूरे जीवन भर पछतावा रहा. कहते हैं कि साल 1885 में उन्होंने अपनी पत्नी के साथ तब सेक्स किया था जब गांधीजी के ससुर यानी कस्तूरबा गांधी के पिता का देहांत हो गया था. उस समय बनाये गए इस संबंध को गांधीजी कभी भूल नहीं पाए और इसका अफ़सोस उन्हें जीवनभर रहा. कहा जाता है कि इस घटना के बाद उन्हें खुद से घृणा होने लगी थी. किताब में इस बात का भी जिक्र है कि अपने जीवनकाल में गांधीजी के संबंध कई अन्य महिलाओं से भी थे.

पढ़ें नाथूराम गोडसे की अस्थियों को 70 साल बाद भी आज तक नहीं किया गया है विसर्जित, जानिए क्या है वजह

पढ़ें नाथूराम गोडसे की अस्थियों को 70 साल बाद भी आज तक नहीं किया गया है विसर्जित, जानिए क्या है वजह

हालांकि हम पुस्तक लेखक के किसी बात की पुष्टि नहीं करते. यह किताब आपको फ्लिप्कार्ट पर आसानी से मिल जायेगी. दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें. 

Back to top button