बिना तकिये के सोने से होते हैं शरीर को ये कमाल के 5 फायदे हो जाएं सावधान, तकिये के साथ सोने की आदत हो सकती ही खतरनाक, इसलिए आज ही तकिये को कहें गुडबाय

अधिकतर लोग तकिये के साथ ही सोना पसंद करते हैं और उनके सिर के नीचे अगर तकिया ना हो तो उन्हें नींद तक नहीं आती है. यहां तक की कुछ लोगों को तो एक साथ दो तकिये लेकर सोने की भी आदत होती है. लेकिन तकिये के साथ सोना शरीर के लिए अच्छा नहीं माना जाता है. कहा जाता है कि तकिये को सिर के नीचे रखने से हड्डियों पर बुरा असर पड़ता है. इसलिए बिना तकिये के सोना ज्यादा फायदेमंद होता है और बिना तकिये के सोने से जुड़े हुए कुछ फयादे इस प्रकार हैं.

कई दर्द को करे दूर

बिना तकिये के सोने से कई तरह की शरीर की दर्द दूर हो जाती हैं. कहा जाता है कि जिन भी लोगों को अक्सर पीठ और कमर में दर्द की शिकायत रहती है. उन लोगों को बिना तकिये के सोना चाहिए. क्योंकि ये सभी दर्द गलत तरह से सोने के कारण ही होती है और गलत सोने के चलते रीढ़ की हड्डी पर दवाब पड़ता है. जो कि इन दर्दों को होने का मुख्य कारण होता है. इसलिए अगर आपको कमर और पीठ में दर्द की शिकायत रहती है तो आप  सोते समय तकियां ना लें . क्योंकि बिना ताकिये को सोने से  रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी रहती है.

रक्त संचार सही से होगा

सही तरीके से ना सोने के चलते शरीर में रक्त का संचार सही से नहीं होता है और ऐसा होने से गर्दन और कंधों के साथ साथ पीठ पर दर्द होने लगता है. हालांकि सोते समय अगर आप तकिये का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो इससे आपके शरीर पर अच्छा असर पड़ता है और आपके अंगों में रक्त संचार बेहतर से होता है. जिसके चलते इन दर्द से राहत मिल जाती है.

दिमाग पर भी पड़ता है असर

कई लोगों को सोने के लिए सख्त तकिये पसंद होते हैं. मगर इन तकियों की वजह से सिर पर काफी दबाव पड़ता है और ऐसा होने से मानसिक विकार होने का खतरा बन जाता है. वहीं बिना तकिये के सोने से सिर पर किसी भी तरह का दवाब नहीं पड़ता.

मुंहासे नहीं होते

चेहरे पर मुंहासे होने की वजह चेहरे पर चिपकने वाली धुल होती है और जब आप तकिये पर सिर रखकर सोते हैं तो तकिये पर मौजूदा धुल आपके चेहरे पर लग जाती है. धूल के ये कण इतने छोटे होते ही की ये आपको तकिये पर नजर तक नहीं आते हैं. वहीं जब ये कण चेहरे की त्वचा से संपर्क में आते हैं तो इससे चेहरे पर दाने यानी मुंहासे हो जाते हैं. इसलिए बिना तकिये के सोने से हमारे चेहरे पर मुंहासे होने की संभावना कम हो जाती है.

झुर्रियां नहीं होती हैं

तकिये की एक तरफ ज्यादा देर तक चेहरा रखने से चेहरे पर जल्द ही झुर्रियां पैदा होने का खतरा बन जाता है और साथ में ही चेहरे के घंटों तक तकिये से दबे होने से रक्त संचार भी सही से नहीं हो पता है. इसलिए जो लोग तकिये के बिना सोते हैं उन्हें झुर्रियां पैदा होने का डर नहीं होता है.

ऊपर बताए गए फायदों के अलावा बिना तकिये के सोने से शरीर को काफी आराम भी मिलता है और ऐसा होने से नींद भी अच्छी आती है. इसके अलावा जो लोग सोते समय तकिये का इस्तेमाल नहीं करते हैं उनकी हड्डियाँ सीध भी रहती हैं.