जौमैटो से आर्डर की बिरयानी को कैंसिल करनें पर अकाउंट से कट गए 50,000 रूपए इस युवक ने आर्डर की बिरयानी, कैंसिल करने की कोशिश में उड़ गए अकाउंट से 50,000 रूपए

न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: आजकल ऑनलाइन खाना आर्डर करना सबसे आसान काम होता हैं। घर पर बैठे-बैठे आप अपने पसंदीदा रेस्टोरेंट से खाना आर्डर करके आराम से घर में खाते हैं। लेकिन तब क्या हो जब आपको वो खाना इतना महंगा पड़ा जाए कि आपके अकाउंट से पूरा पैसा ही उड़ा लिया जाए। आपको सुनकर हैरानी हो रही होगी, लेकिन एक शख्स ने बिरयानी आर्डर की लेकिन जब वो अपना ऑर्डर कैंसिल करने लगा तो उस कैंसिलेशन के चक्कर में उसके अकाउंट से 50,000 रूपए कट गए। ना तो उसे बिरयानी मिली साथ ही उसका अकाउंट भी खाली हो गया। तो चलिए आपको बताते हैं पूरा माजरा।

ऑनलाइन ट्रांजिक्शन को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की योजनाएं बनाई गई, लेकिन इसके साथ ही कई तरह की धोखाधड़ी भी बढ़ गई हैं। हालांकि सभी बैंक अपने ग्राहकों को बताती हैं कि वो किसी से भी अपनी अकाउंट डीटेल्स को ना शेयर करें। लेकिन इसके बावजूद भी कई लोग इस ऑनलाइन धोखाधड़ी का शिकार हो जाते हैं, और इसी धोखाधड़ी का शिकार हुआ निशांत नाम का एक युवक।

निशांत को ऑनलाइन बिरयानी आर्डर करना इतना महंगा पड़ गया कि उसके अकाउंट से 49997 रुपये कट गए। वो भी तब जब वह अपना ऑर्डर कैंसिल कर रहा था। कैंसिलेशन के दौरान उसके अकाउंट से तीन बार में  भारी रकम उड़ा ली गई।

दरअसल निशांत राज नाम का युवक बिहार से बंगाल घूमने आया था। जहां पर वो अपने एक रिश्तेदार के यहां पर रूका हुआ था। एक दिन घूमकर वापस घर आते वक्त उसने अपने लिए जोमैटो से एक प्लेट बिरयानी ऑनलाइन आर्डर कर दी। लेकिन घर पहुंच कर उसने देखा कि खाना बना हुआ है, जिसके बाद वह आर्डर कैंसिल करने की कोशिश करने लगा। उसने गूगल से आर्डर कैंसिल करने के लिए जोमैटो के कस्टमर्स केयर का नंबर सर्च किया।

जब निशांत ने नंबर पर कॉल करा तो उसे एक ऐप डाउनलोड करने को बताया गया और कहा गया की ऑर्डर कैंसिल होते ही पैसा उसके अकाउंट में वापस आ जाएगा। निशांत के एप डाउनलोड करते ही कुछ ही देर में उसके फोन पर बैंक ट्रांजैक्शन का मैसेज आने लगा।

थोड़ी ही देर में 19999, 19999 और 9999 रुपये उसके खाते से कटने लगे, निशांत को समझते देर ना लगी कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है। वो फौरन ही नजदीकी पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराने पहुंचा।लेकिन न ही पुलिस और न ही साइबर अपराध शाखा में उसका मुकदमा दर्ज किया गया। निशांत ने बताया कि उसके पास उस नंबर से दोबारा कॉल आया और बोला गया कि वो चाहे कुछ भी कर ले अब उसके पैसे वापस नहीं मिलेंगे।