18 साल की उम्र में किए इस पाप की सजा भुगत रहे हैं काँटो पर सोने वाले बाबा, कुंभ में भी आये नज़र

यूपी के प्रयागराज में कुंभ-2019 का भव्य उत्सव अपने जोरों पर है. हर दिन कई ना कोई कुंभ से सुर्खियां बटोरता फिर रहा है और हर दिन देश भर से लोग यहां पर स्नान करने पहुंच रहे हैं. कुंभ में ना सिर्फ देश के लोग शामिल हुए बल्कि विदेश से भी बहुत से लोग शामिल होने आए हैं. इसी से जुड़े एक बाबा यानी साधू के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जो साधू भुगत रहा है इस पाप की सजा, अब इन्होंने कौन सा अपराध किया. इसके बारे में हम आपको बताते हैं.

साधू भुगत रहे है इस पाप की सजा

हम जिस साधू के बारे में आपको बताने जा रहे हैं उनके बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि भगवान की भक्ति में शक्ति होती है और ऐसा भगवान की भक्ति समय-समय पर सिद्ध करते रहते हैं. इस कुंभ में कांटों वाले बाबा सबका ध्यान अपनी ओर खींच रहे हैं. ये बाबा कांटों के बिस्तर पर हमेशा लेटे रहते हैं जिसे देखकर हर कोई सहम जाता है और उनके रोंगटे खड़े हो जाते हैं.

ये कांटों वाले बाबा हमेशा ऐसे क्यों कांटो पर विराजमान होते हैं इसके पीछे दिलचस्प बात है. दरअसल हुआ असल में 18 साल की उम्र में इनके साथ ऐसी घटना घटी जिसकी सजा ये आज भी भुगत रहे हैं. ऐसा बताया जाता है कि कुंभ में ये कांटो लवाले बाबा कई सालों से अपने पाप का प्रायश्चित कर रहे हैं. इस बारे में बाबा ने बताया कि जब वह 18 साल के थे तब उन्होंने गलती से गौ हत्या कर दी थी और जिसके बाद उन्हें बहुत अफसोस हुआ.

इस बार कुंभ में भी आये नज़र

काटों वाले बाबा ने बताया कि वह माघ मेले और कुंभ के दौरान प्रयागराज पहुंच कर उस दौरान जो भी उन्हें धन चढ़ावे के रूप में मिलता है उसे मथुरा में गायों की देख-रेख में इस्तेमाल कर देते हैं. काटों वाले बाबा के अनुसार, देश में जहां पर बड़ा धार्मिक आयोजन होता है वहां पर वे पहुंचकर ये अपना कांटों का बिस्तर बिछा लेते हैं.

आपको बता दें कि कांटों वाले बाबा का नाम लक्ष्मण राम है. बाबा लक्ष्मण राम का कहना है कि कांटो के बिस्तर में सोने से उन्हें दर्द होता है जिसे वो सहते हैं. शायद आप ने भी कई बार सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीरों को लाइक या शेयर किया होगा. बाबा लक्ष्मण राम इस बार भी कुम्भ मेले के दौरान काँटो के बिस्तर पर सोते हुए नज़र आये थे।