लड़का हमेशा करता था लड़की का पीछा, लड़की ने सबक सिखाने के लिए किया ऐसा काम, यकीन न होगा

न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: एक समय पर मोबाइल नंबर लेकर लड़कियों को परेशान करना लड़कों की आदत बन गया था जिसके बाद से साइबर सेल आने के बाद उन मनचलों पर नकेल कसी जाने लगी जो लड़िकयों का नंबर लेकर उनको परेशान करते थे। पहले लड़कियां इस तरह की हरकत होने पर डर जाती थी और उसकी कंपलेन नहीं करती थी लेकिन इस समय ऐसा नहीं होता है। अब लड़कियां इस तरह की समस्या का डटकर सामना करती हैं और ऐसा ही किया हैदराबाद की एक साफ्टवेयर इंजीनियर नें।

लेकिन उस लड़की ने उस मनचले को सबक सिखाने के लिए जो कदम उठाया उसके चक्कर में उसे खुद ही जेल जाना पड़ गया। जी हां, आपको सुनकर अजीब लग रहा होगा लेकिन ऐसा हुआ है। दरअसल ये पूरा मामला हैदराबाद का है, जहां पुलिस ने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को गिरफ्तार किया है। जिसकी वजह था वो मनचला युवक जो उस लड़की को काफी समय से परेशान कर रहा था। जिसको सबक सिखान के लिए उस लड़की ने उस लड़के का अपहरण कर लिया और फिर उसको जान से मारने की कोशिश की।

जानिए क्या है पूरा मामला

23 साल का वी साई कुमार पेशे से कारपेंटरी का काम करता है, उसने अपने दोस्त के घर पर उस लड़की को देखा और फिर उसका मोबाइल नंबर निकाल लिया और उसको परेशान करने लगा। उस लड़के के फोन कॉल और मैसेज से परेशान होकर साइबराबाद में बतौर प्रोजेक्ट मैनेजर काम कर रही उस लड़की ने मनचले को सबक सिखाने की ठानी। उसने अपने 5 दोस्तों के साथ मिलकर उसको अपहरण करने का प्लान बनाया।

जिसके चलते उसने साई कुमार को सिकंदराबाद में एक कॉलेज के पास मिलने के लिए बुलाया। जैसे ही वो वहां पहुंचा सबने मिलकर उसको पकड़ लिया और फिर उसकी खूब पिटाई की जिसके बाद उसको एक सूनसान इलाके में ले गए। जहां से वो मनचला किसी तरह अपनी जान बचाकर भाग निकला और अस्पताल में भर्ती हुआ। उसने उस लड़की पर अपहरण कर उसकी जान लेने की कोशिश करने का आरोप लगाया। उसको रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने लड़की समेत सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

फिलहाल वो लड़की और उसके सभी साथी पुलिस हिरासत में हैं जहां पर उनसे पूछताछ चल रही है। इस बीच पुलिस ने महिलाओं से अपील की है कि वे कानून अपने हाथ में न लें और जल्द कार्रवाई के लिए पुलिस की मदद लें।

हालांकि यहां पर गलती किसकी ज्यादा है इस बात पर कोई भी जवाब नहीं मिला है। वो मनचला जो लड़की को परेशान कर रहा था। या उस लड़की की जिसने उसको सबक सिखाने के लिए कानून अपने हाथ में लिया बजाय पुलिस की मदद लेने के या फिर पुलिस का जिस पर उस युवती को भरोसा नहीं था जिसके चलते उसने ये कदम उठाया?