Budget 2019: जानिए मोदी सरकार ने महिलाओं को बजट के जरिए क्या क्या सौगातें दी

इस साल यानी साल 2019 के पेश हुए बजट से कई लोगों को काफी उम्मीद थी और कहा जा रहा था कि आम चुनाव से पहले सरकार इस बजट के जरिए लोगों को कई सारी राहत और सौगात देगी. लेकिन सरकार ने इस बजट में ज्यादा बड़े ऐलान नहीं किए और ये बजट भी हर वर्ष पेश किए जाने वाले आम बजट के जैसा ही था. इस बजट में मोदी सरकार ने किसानों, आम लोगों, गरीब जनता और महिलाओं से जुड़े कुछ ऐलान किए हैं और इस बजट में महिलाओं को क्या क्या सौगातें सरकार द्वारा दी गई है वो इस प्रकार है.

महिलाओं के लिए क्या खास है बजट 2019 में

इस अंतरिम बजट को पेश करते हुए पीयूष गोयल ने महिला के सशक्तिकरण मिशन और सुरक्षा का जिक्र करते हुए इस मिशन के लिए 1330 करोड़ आवंटित करने का ऐलान किया है. इस बजट में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का भी ख्याल रखा गया है और इन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सरकार ने तोहफा देते हुए इनकी सैलरी सीधा 50 फीसदी बढ़ा दी है.

इसके अलावा बजट में पीयूष गोयल ने गर्भवती महिलाओं के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का भी जिक्र किया और कहा कि इस योजना से गर्भवती महिलाओं को काफी फायदा मिल रहा है. उनकी सरकार द्वारा महिलाओं का ध्यान रखा जा रहा है और महिलाओं की मैटरनिटी लीव 26 हफ्तों का किया गया है.

एलपीजी कनेक्शन की सीमा बढ़ाई

उज्ज्वला योजना जो कि एलपीजी कनेक्शन से जुड़ी हुई है उसका और विस्तार कर दिया गया है और अब इस योजना के जरिए 8 करोड़ एलपीजी कनेक्शन दिए जाएंगे. अभी तक 6 करोड़ एलपीजी कनेक्शन दिए जा चुके हैं. सरकार इन कनेक्शन को देने का काम अगले साल तक कर लेगी. गौरतलब है कि एलपीजी कनेक्शन मिलने से महिलाओं को लकड़ी की जगह गैस की मदद से खाना बनाने की सुविधा सरकार द्वारा दी जा रही है.

40 हजार पर लगेगा टीडीएस

टैक्स डिडक्शन एट सोर्स यानी टीडीएस (TDS) से जुड़ा हुआ भी ऐलान सरकार ने किया है और अब 40 हजार तक के ब्याज राशि पर सरकार द्वारा टीडीएस नहीं काटा जाएगा. आपको बता दें कि इससे पहले ये राशि 10 हजार रुपए की थी और केवल 10 हजार की ब्याज राशि को ही टीडीएस से बाहर रखा जाता था. लेकिन इस ऐलान के बाद से 40 हजार की ब्याज राशि पर किसी को भी टीडीएस कटवाने की जरूरत नहीं होगा.

उदाहरण के तौर पर, अगर आप किसी बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस में एक वर्ष या इससे अधिक की कोई एफडी बनाते हैं, तो एफडी की सीमा खत्म होने के बाद आपको जो ब्याज सहित राशि मिलेगी. उस राशि में से ब्याज वाली राशि में से 40 हजार रुपए को छोड़ दिया जाएगा और 40 हजार रुपए को छोड़ने के बाद जो ब्याज राशि बचेगी उस पर आपका टीडीएस काटा जाएगा.

मान लीजिए अगर आप 10 लाख की कोई एफडी बनाते हैं और ये एफडी पांच साल की होती है और पांच साल बाद आपके 14 लाख रुपए इस एफडी में मिलते हैं, जिनमें से 4 लाख रुपए आपके ब्याज के होते हैं. तो इन 4 लाख में से 40 हजार रुपए कम कर लिए जाएंगे और बचे 3 लाख 60 हजार पर आपको टीडीएस देना होगा. अगर इस राशि पर 10 प्रतिशत टीडीएस काटा जाता हैं तो आपके पास 3 लाख 24 हजार रुपए बचते हैं. यानी आपको 14 लाख में से कुल मिलाकर 13 लाख  64 हज़ार रुपए की राशि मिलेगी.