विशेष

11 साल बाद दादी-पोती की मुलाकात की इमोशनल तस्वीर हुई वायरल, पीछे की कहानी जानकार आप..

इन दिनों सोशल मीडिया पर दादी और पोती की भावुक कर देने वाली अत्स्वीर काफी वायरल होती नजर आ रही है. तस्वीर के पेचे की कहानी क्या है, यह शायद आपमें से बहुत लोग नहीं जानते होंगे. तस्वीर में एक बच्ची स्कूल ड्रेस में बुजुर्ग महिला के साथ गले लगकर रोटी हुई दिखाई दे रही है. हलाकि तस्वीर में जितना दर्द छिपा नजर आ रहा है, उससे कईं गुना अधिक दर्दभरी कहनी इस बुजुर्ग महिला की है. बता दें कि यह तस्वीर समाज सेविका अनीता चौहान द्वारा शेयर की गई थी जिसे क्रिकेटर हरभजन सिंह ने रीट्वीट किया जिसके बाद से ही लोग इस तस्वीर को लेकर भावुक होते नजर आए.

11 साल हुई थी दोनों की मुलाक़ात

बता दें कि इस तस्वीर के पीछे की कहानी साल 2007 से ताल्लुक रखती है. 11 साल बाद की इस तस्वीर के पुराने पन्ने फरोलने पर पता चला कि यह दोनों रिश्ते में दादी-पोती हैं. इनकी कहानी भले आपको थोड़ी फ़िल्मी लगेगी लेकिन यह बिलकुल सच्ची घटना है जो आपको दो बार सोचने पर मजबूर कर देगी. यह तस्वीर उस समय ली गई जब एक स्कूल ट्रिप के दौरान वृद्धाश्रम जाने का प्लान बनाया गया. इसी बीच एक छात्रा की मुलाकात उसकी दादी से हो गई. छात्रा के अनुसार सालों पहले उसके माँ बाप ने उसे झूठ बोल कर दिलासा दिया था कि अब उसकी दादी किसी दुसरे रिश्तेदार के घर रहना चाहती हैं. लेकिन वर्षों बाद फिर से अपनी दादी को अपने सामने खड़ा पा कर दोनों दादी और पोती अपने आंसू बहने से ना रोक सके.

क्या माँ बाप ने कहा था झूठ?

लंबे अरसे के बाद अपनी दादी को सामने देख कर छात्रा पहले तो हैरान रह गई लेकिन बाद में खुद को भावुक होने से रोक नहीं पाई और अपनी बिछड़ी दादी से गले लग कर रोने लगी. दादी पोती का प्रेम मिलाप देखग कर वहां मौजूद अन्य छात्र भी इमोशनल हो गए. दोनों की कहानी का खुलासा हाल ही में एक फेसबुक पोस्ट द्वारा मणि भद्रा नामक व्यक्ति ने किया. मणि भद्रा के अनुसार जब भी लड़की अपने माँ बाप से दादी के बारे मी सवाल पूछती तो उसे यह कह कर चुप करवा दिया जाता कि वह किसी रिश्तेदार के साथ रहती है और वहां ख्सुह हैं. लेकिन सच तो यह था कि इस कलयुगी बेटे और बहु ने बूढी माँ को दर-दर की ठोकरे खाने के लिए छोड़ दिया था.

हजारों लोग कर रहे हैं रीट्वीट

बता दें कि हरभजन सिंह के तस्वीर शेयर करने के बाद अभी तक 13 हजार लोग इसे रीट्वीट कर चुके हैं. वहीँ एक यूजर के अनुसार इन दोनों की कहानी साल 2007 में भी छपी थी. ऐसे में सोशल मीडिया पर लोग ऐसे बेटे और बहु की जमकर आलोचना कर रहे हैं. बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार तस्वीर में नजर आ रही इस दादी का नाम दमयंती है जबकि पोती का नाम भक्ति है. दोनों अहमदाबाद की रहने वाली हैं. दादी दमयंती का कहना है कि उन्हें किसी ने कभी घर से नहीं निकाला था वह अपनी मर्जी से यहाँ रहती आई हैं और उनका बीटा और बहु रोज़ उनसे फोन पर बातें करते हैं. हालाँकि इस बात में कितनी सच्चाई है या कितना झूठ यह अभी तक कोई नहीं जान पाया है.

Back to top button