मिलिए ‘भाभी जी घर पर हैं’ के विभूति नारायण मिश्रा की पत्नी से, देखें तस्वीरें

एंड टीवी पर आने वाला सबसे पॉपुलर टीवी सीरियल ‘भाभी जी घर पर हैं’ में सौम्या टंडन, आशिफ शेख, रोहिताश गौड़ और शिल्पा शिंदे मुख्य किरदारों में हैं. इस सीरियल में आशिफ खेश ने विभूति नारायण मिश्रा का किरदार निभाया है और इन्हें इस शो की जान कहा जाता है. ‘भाभी जी घर पर है’ टीवी पर आने वाला सबसे पॉपुलर शो है और इस शो में विभूति नारायण की पत्नी का किरदार सौम्या टंडन निभा रही है जो बहुत ही खूबसूरत हैं लेकिन लेकिन असल जिंदगी में इनकी पत्नी भी कुछ कम नहीं है. आपको ये जानकर हैरानी होगी टीवी पर दिखने वाला हैंडसम विभूति नारायण मिश्रा की 24 साल की बेटी और 21 साल का बेटा है. ‘भाभी जी घर पर हैं’ के विभूति नारायण की पत्नी के आगे फेल हैं गोरी मेम, इस शो में आशिफ सेख को देखकर कोई नहीं कह सकता कि उनकी इतनी उम्र है.

‘भाभी जी घर पर हैं’ के विभूति नारायण की पत्नी के आगे फेल हैं गोरी मेम

54 साल के विभूति नारायण मिश्रा यानी आशिफ शेख ने 90 के दशक में जे़बा शेख के साथ शादी की और उनके दो बच्चे मरयम शेख और अल्याज़ शेख हैं जिनकी उम्र 20 साल के ऊपर है. आशिफ शेख की शादी को 25 साल हो गए हैं और उनकी पत्नी जे़बा बहुत ही खूबसूरत और ग्लैमरस हैं. उन्होंने आशिफ का साथ तब दिया जब वो इंडस्ट्री में संघर्ष कर रहे थे. आशिफ शेख की बेटी टैंलेंट मैनजमेंट कंपनी चलाती हैं और उनका बेटा नर्देशन की फील्ड में पढ़ाई कर रहे हैं और इसी में अपना करियर बनाएंगे. आपको बता दें कि आशिफ के बेटे माजिद शेख ने कुछ फिल्मों में असिस्टेंट डायरेक्ट किया है. शो में आशिफ शेख की पत्नी बनी सौम्या टंडन को ‘गोरी मेम’ कहा जाता है और आशिफ अपनी पत्नी को कभी-कभी मजाक के लिहाज में ‘गोरी मैम’ कहते हैं और आज भी अपनी पत्नी के साथ रोमांटिक रहते हैं और अपने परिवार से बहुत प्यार करते हैं. आशिफ शेख अपनी बेटी के ज्यादा करीब हैं और उनकी बेटी भी आशिफ को बेस्ट पापा मानती हैं. इस बात का जिक्र आशिफ अपने एक इंटरव्यू में किया.

बॉलीवुड में कर चुके हैं कई फिल्में

11 नवंबर, 1964 को दिल्ली में जन्में आशिफ शेख लेकिन इनका पूरा बचपन यूपी के बनारस में बीता. इन्हें पार्टी करने का बिल्कुल शौक नहीं है और आशिफ बेस्ट कुक हैं. इन्हें अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताना बहुत पसंद है. बड़े होने पर ये दिल्ली वापस आए और यहां पर थिएटर करने लगे इसके बाद इन्होंने साल 1986 में रामा ओ रामा से अपने करियर की शुरुआत की. इसके बाद उन्होंने बॉलीवुड में करण-अर्जुन, यारा दिलदारा, बंधन, औज़ार, कुंवारा, प्यार किया तो डरना क्या, परदेसी बाबू, ताक़त, हसीना मान जाएगी, बाल ब्रह्मचारी ज़माना दीवाना, प्यार कोई खेल नहीं, छोटे सरकार, मैंने दिल तुझको दिया, और प्यार हो गया, कर्तव्य, सिकंदर सड़क का और बनारसी बाबू जैसी कई फिल्मों में काम किया है.