जानिये क्या हुआ जब आज तक की पत्रकार नोटबंदी पर झूठा सवाल करने लगी… देखें वीडियो!

नोटबंदी आजाद भारत का अब तक का सबसे बड़ा और क्रन्तिकारी फैसला है। देश की इमानदार जनता इसके पक्ष में है, जबकि जो लोग काला धन रखे हुए हैं वो इसके विपक्ष में बातें कर रहे हैं। सभी मीडिया चैनल इसी बात को अपने-अपने तरीके से जनता के सामने रख रहे हैं। इसी वजह से जनता के मन में इसके लिए अच्छे या बुरे विचार बन रहे हैं। कुछ मीडिया चैनल तो जानबूझकर जनता से ऐसे सवाल पूछ रहे हैं कि जनता उलझकर उल्टा-पुल्टा जवाब दे दे। लेकिन जो समझदार लोग हैं वह सही बात कर रहे हैं।

विपक्ष और कुछ मीडिया चैनल कर रहे हैं इसकी बुराई:

आपको बता दें देश की 90 प्रतिशत जनता नरेन्द्र मोदी के नोटबंदी वाले कदम से खुश है और इसके समर्थन में खड़ी है, जबकि केवल 10 प्रतिशत जनता ही इसके विरोध में बात कर रही है। यह तो सही बात है कि नोटबंदी के बाद जनता को थोड़ी दिक्कत हो रही है, बावजूद इसके जनता इसके समर्थन में है। वही विपक्ष और कुछ मीडिया चैनल इसकी बुराई करते नहीं थक रहे हैं। नोटबंदी के बाद से काला धन रखने वालों की हालत खराब हो चुकी है। उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि अपने काले धन को कहाँ छुपायें।

जनता ने दिखाया अपना भरोसा:

नोटबंदी के बाद नरेन्द्र मोदी ने गोवा में जनता से हो रही परेशानियों को दूर करने के लिए 50 दिन का समय माँगा था। उन्होंने कहा था कि 50 दिन यानी 30 दिसंबर तक देश की हालत में सुधर हो जायेगा और कैश की समस्या को सुलझा लिया जायेगा। जनता को उनके ऊपर पूरा भरोसा है, जबकि विपक्ष अपनी टांग अड़ाने से बाज नहीं आ रहा है। 2014 के लोकसभा चुनाव में ही जनता ने दिखा दिया था कि इस बार जनता मोदी की तरफ है और उनकी हर बात को वो मानेगी।

लोगों ने कर दी महिला पत्रकार की बेइज्जती:

आज हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप हैरान हो जायेंगे। यह घटना एक पत्रकार के साथ घटित हुई है। दरअसल यह महिला पत्रकार आज तक चैनल से थी और नोटबंदी पर लोगों की राय जानने के लिए जनता के बीच गयी हुई थी। वहाँ जब उसने सवाल पूछा तो एक बुजुर्ग आदमी ने उसकी ढंग से बेइज्जती कर दी और उसके ऊपर झूठी रिपोर्टिंग करने का आरोप भी लगाया। उसके बाद सभी लोगों ने आज तक चैनल ने मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। पूरा मामला जानने के लिए आप वीडियो।

वीडियो देखें:

Leave a Reply

Your email address will not be published.