विशेष

14 साल को बेटे को जेल भेजने के लिए मां ने खुद बुलाई पुलिस,जानें क्या था बेटे का कसूर

उम्र के किसी भी पड़ाव पर एक मां के लिए उसका बेटा बच्चा ही रहता है औऱ फिर 14 साल का लड़का तो बच्चा ही होता है। 14 साल की  उम्र के एक ऐसे ही बच्चे की मां ने एक रात कुछ ऐसा देख लिया जिससे उसे यकीन नहीं हुआ कि उनके बेटा कोई मासूम नहीं बल्कि एक हैवान है। उसका हैवानियत देखकर वह कुछ पल के लिए तो सदमें में चली जाती है, लेकिन फिर एक जिम्मादर नागरिक की तरह पुलिस को अपने घर बुलाती हैं औऱ अपने ही बच्चे को जेल भेजने के लिए पुलिस से सिफारिश करती हैं। आपके मन में भी सवाल आ रहा होगा कि एक 14 साल के बच्चे ने ऐसा कौन सा गुनाह किया होगा जो उसकी मां ने इतना बड़ा कदम उठा लिया।

दरअसल यह परिवार मैरीलैंड में रहता था जहां एक औरत अपने दो बच्चों के साथ रहती थी उनका बड़ा बेटा 14 साल का सोलोमन प्यूल था औऱ दूसरा बच्चा सिर्फ दो साल का था। एक बार वह अपने छोटे बच्चे को सुलाने के लिए नीचे कमरे में थी। ऊपर से उनके बेटे और उसकी कजिन के खेलने कुदने की आवाज आ रही थी। जो बच्ची प्यूल के साथ खेल रही रही थी वह सिर्फ 8 साल की थी। खेलने की आवाज के साथ जब आवाज अचानक से बंद हो जाती है तो मां को अजीब लगता है और वह ऊपर जाती हैं।

प्यूल की मां जब दबे पैर कमरे में पहुंचती हैं तो अंदर का दृश्य देखकर उनके पैरों तले जमीन खिसक जाती हैँ। उनका मासूम सा दिखने वाला बेटा अपनी कजिन के साथ कोई खेल नहीं खेल रहा था बल्कि उसके साथ दुराचार कर रहा था। उसके शरीर पर एक भी कपड़े नहीं थे और पास ही एक चाकू रखा था। एक पल के लिए तो वह सदमे में चली जाती हैं औऱ फिर तुरंत गुस्से में नीचे जाती हैं औऱ बिना किसी देरी के पुलिस को कॉल कर देती हैं।

सोलोमन के घर पुलिस आती है तो वह अपने बेटे की गंदी हरकत को पुलिस को बताती हैं। उसकी 8 साल की कजिन वही थी। पुलिस उससे पूछताछ करती है तो बच्ची कहती है कि सोलोमन ने चाकू दिखाकर उससे कहा था कि अगर उसने शोर मचाया तो वह चाकू मारकर उसकी जान ले लेगा। वह धमकी से डर जाती है और सोलोमन उसके साथ गंदी हरकत करता है।

सोलोमन की मां भी गवाही देती हैं कि जब उन्होंने कमरा खोला तो वहां का मंजर देखकर वह हिल गई थीं। पुलिस ने जांच की तो सोलोमन को रे प का दोषी पाया। उसकी उम्र महज 14 साल है, लेकिन एक बालिग जैसे उस पर मुकदमा चलाकर उसे जज ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। बता दें कि मैरीलैंड में 16 की उम्र के इंसान को व्यस्क यानी बालिग समझा जाता है। उसकी उम्र भले ही 14 साल की रही हो, लेकिन उसका जुर्म बेहद ही घिनौना और खौफनाक था।कुछ लोगों का मानना था कि उसका काम घृणित जरुर था, लेकिन उसे बाल सुधार गृह में भेजना चाहिए था। उसके मन में कोई शैतान नहीं रहा होगा बल्कि पॉर्न या अडल्ट फिल्म देखकर उसने यह सारी चीजें सीख ली होंगी।

Related Articles

Close