राजनीतिसमाचार

राजस्थान में बीजेपी की नैया पार लगाएंगे पीएम मोदी, 25 नवंबर से करेंगे ताबड़तोड़ प्रचार

राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस और बीजेपी ने जमकर चुनाव प्रचार करना शुरू कर दिया है। जी हां, कांग्रेस और बीजेपी इन दिनों राजस्थान में ताबड़तोड़ प्रचार करती हुई नजर आ रही है। इन सबके बीच बीजेपी की तरफ से पीएम मोदी राजस्थान में चुनावी बिगुल फुकेंगे। पीएम मोदी का राजस्थान दौरा बीजेपी के लिए रामबाण साबित हो सकता है। बीजेपी की हालत राजस्थान में बेहद नाजुक बताई जा रही है। ऐसी स्थिति में पीएम मोदी ही बीजेपी की नैया पार लगा सकते हैं। चुनावी सर्वे पर गौर किया जाए तो बीजेपी की वापसी नहीं होती हुई नजर आ रही है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

पीएम मोदी बीजेपी के स्टार प्रचारक माने जाते हैं और इनके एक बार चुनाव के मैदान में उतर जाने से बीजेपी मजबूत हो जाती है। जब बीजेपी  अध्यक्ष अमित शाह को लगा कि राजस्थान हाथ से निकलने वाला है तो उन्होंने तुरंत पीएम मोदी की ताबड़तोड़ रैलिया रख दी। पीएम मोदी के भाषा शैली और आकर्षकपन से लोग उनकी तरफ खींचे चले जाते हैं और इसी बात का फायदा बीजेपी तमाम चुनावों में लेती है। पीएम मोदी राजस्थान में बीजेपी की नैया पार लगाने के लिए जाएंगे तो वहीं दूसरी तरफ सीएम योगी भी मैदान में अपनी ताकत दिखाएंगे।

ये है पीएम मोदी का पूरा कार्यक्रम

राजस्थान में पीएम मोदी 25 नवंबर से 4 दिसंबर तक ताबड़तोड़ प्रचार करेंगे। जी हां, पीएम मोदी राजस्थान में 25 नवंबर से 4 दिसंबर तक 10 चुनावी सभाएं करेंगे, जिसमें वे बीजेपी की जीत को पक्की करेंगे। बता दें कि पीएम मोदी 25 नवंबर को अलवर में एक चुनावी सभा को संबोधित करेंगे और फिर 26 नवंबर को  सुबह 11 बजे भीलवाड़ा, दोपहर 12.50 बजे बैणेश्वर धाम डूंगरपुर, दोपहर बाद 3.15 बजे कोटा में चुनावी सभा करेंगे। ठीक इसी तरह  पीएम मोदी 28 नवंबर को नागौर, भरतपुर, तीन दिसंबर को जोधपुर और चार दिसंबर को हनुमानगढ़, सीकर और जयपुर में आम सभा को संबोधित करेंगे।

पीएम मोदी इस दौरान वसुंधरा कार्यकाल के कामो को गिनाएंगे तो वहीं दूसरी तरफ विपक्ष का रूख जोकि तेज़ी से बढ़ रहा है, उसे खत्म करेंगे। अमित शाह का मानना है कि पीएम मोदी जब राजस्थान जाएंगे तो वहां बीजेपी की जीत पक्की हो जाएगी और तमाम विपक्षीय पार्टियों के दावे भी खारिज हो जाएंगे। बता दें कि बीजेपी के लिए राजस्थान जीतना बहुत ही ज़रूरी है, वरना इसका आगामी चुनावों पर पड़ेगा।

Back to top button
?>