राजनीति

राम मंदिर के लिए मुस्लिम नेता ने भरी हुंकार, कहा रामलीला में जुटेंगे 25 हजार मुसलमान

सर्दियों का मौसम भले ही शुरु हो गया हो, लेकिन राम मंदिर के मुद्दे ने राजनीति सरगर्मी बढ़ा दी है। राम मंदिर के मुद्दे पर लगातार बीजेपी से सवाल किया जा रहा है। इस विवादित ढांचे पर राम मंदिर बनाने को लेकर अब मुस्लिम समुदाय भी आगे आ रहा है। बता दें कि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के नेता यासिर जिलानी ने भी राम मंदिर के लिए हुंकार भरी है। जिलानी ने राम मंदिर निर्माण के लिए देशभर के मुस्लिम को एक जुट करके समर्थन देने की बात कही है।

राम मंदिर के मुस्लिम समर्थक

यासिर जिलानी ने कहा कि हम दिसंबर में देश भर के मुसलमानों को एक जुट करने के प्रयास करेंगे। हम करीब 25 हजार मुसलमानों से दिल्ली के रामलीला मैदान में जुटाने का प्रयास कर रहे हैं। इसके जरिए हम यह संदेश देंगे की अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का ठीक समय आ गया है। बता दें कि राम मंदिर का मुद्दा 2019 के चुनाव के लिए सबसे बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है।

संघ जल्द से जल्द अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर केंद्र पर दबाव बना रही है। बता दे कि पिछले 6 दिनों से वाराणसी में प्रचारक संवर्ग मंथन की बैठक हो रही है। इस बैठक में अब तक कई अहम फैसले लिए गए हैं।इसमें फैसला लिया गया है कि राम मंदिर के पक्ष में राष्ट्रीय स्तर पर प्रभाव बनाया जाए साथ ही 25 नंवबर को ज्यादा से ज्यादा लोगों को अयोध्या पहुंचने में सहयोग मिले।

करणी सेना भी चाहती है राम मंदिर

राम मंदिर बनाने को लेकर विपक्ष भी लगातार केंद्र सरकार पर निशाना साध रही है। इस मुद्दे पर करणी सेना भी कूद चुकी है और उनके प्रधान लोकवी ने कहा है कि अगर कोर्ट उन्हें अनुमति दे दे तो वह बहुत जल्द भगवान राम का मंदिर बनवाएंगे। उन्होंने कहा हम ठाठ से जी रहे हैं और भगवान राम टेंट में हैं।

राम मंदिर के विषय पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत भी अक्सर अपनी बात रखते आए हैं। मोहन भागवत ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का बहुत जल्द निर्माण होगा। उनका कहना था कि जितनी जल्दी राम मंदिर बनेगा उतनी जल्दी हिंदू और मुस्लिमों के बीच तनाव खत्म हो जाएगा।

संघ प्रमुख ने बताया समाधान

मोहन भागवत ने कहा था कि प्रभु श्री राम कुछ लोगों के भगवान नहीं हो सकते, लेकिन वह समाज के लिए सभी वर्ग के लोगों के लिए भारतीय मूल्यों के आदर्श हैं। उन्होंने कहा कि एक संघ कार्यकर्ता, संघ प्रमुख और राम जन्मभूमि आंदोलन के एक हिस्से के तौर पर मैं चाहता हूं। भगवान राम की जन्मभूमि अयोध्या में जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर बनाया जाए।

दूसरी तरफ केंद्रीय पर्यटन मंत्री महेश शर्मा मे कांग्रेस से मांग करते हुए मांग उठाई की राम मंदिर कांग्रेस अपना रुख साफ करें। हम अयोध्या में राम मंदिर चाहते हैं। केंद्रीय मंत्री महेश ने कहा कि राम मंदिर राजनीतिक मुद्दा नही है, यह भारतीयों की भावनाओं का सवाल है। हम राम मंदिर अयोध्या में चाहते हैं।यह देश के संवैधानिक उपबंधों के अनुसार हल होगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट में मामला विचाराधीन है। अब देखना दिलचस्प होगा की कोर्ट राम मंदिप पर अपना आखिरी फैसला कब सुनाती है।

यह भी पढ़ें

Related Articles

Close