नोटबंदी पर शिवसेना का बड़ा बयान ‘पीएम मोदी को सजा देने के लिए तैयार है जनता’

आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी से अलग थलग होने का ऐलान कर चुकी शिवसेना ने अब नोटबंदी को लेकर बड़ा हमला बोला है। जी हां, बीजेपी की सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी ने उससे दामन छुड़ाने का ऐलान तो पहले ही कर चुकी है, लेकिन अब एक से बढ़कर एक वार करती हुई नजर आ रही है। नोटबंदी के मुद्दे को लेकर एक बार फिर से विपक्ष और पक्ष में घमासान देखने को मिल रहा है। विपक्ष सरकार के इस फैसले को दो साल से गलत ठहरा रही है तो वहीं सत्ताधारी पार्टी विपक्ष पर गुमराह करने का आरोप लगा रही है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

शिवसेना के प्रवक्ता मनीषा कायंदे ने कहा कि पीएम मोदी के इस फैसले के लिए जनता अब इंतजार कर सजा देने का  कर रही है। शिवसेना ने कहा कि 2019 के चुनावों में तो जनता को बीजेपी को सजा देगी ही, लेकिन इससे पहले होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी का बंटाधार होने वाला है। शिवसेना ने कहा कि जितना बीजेपी ने जनता को इन चार सालों में प्रताड़ित किया है, उससे कहीं ज्यादा जनता बीजेपी को सजा देने के लिए इंतजार कर रही है और बीजेपी को जनता सजा देकर ही रहेगी।

नोटबंदी ने ली लाखों लोगों की नौकरी

शिवसेना प्रवक्ता ने कहा कि पीएम मोदी ने कहा था कि नोटबंदी से आतंकवाद का खात्मा होगा और नकली नोट की समस्या खत्म हो जाएगी, लेकिन यह भी नहीं हो सका। इसके अलावा प्रवक्ता ने आगे कहा कि दो साल के बाद स्थिति इतनी खराब है कि लोग प्रधानमंत्री को सजा देने का इंतजार कर रहे हैं। शिवसेना ने आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी जिस उद्देश्य के लिए किया था तो वह उद्देश्य भी सरकार पूरा नहीं कर पाई है, इसलिए अब बीजेपी जनता के अदालत में सजा ज़रूर पाएगी।

इसके अलावा शिवसेना प्रवक्ता ने कहा कि वित्त मंत्री कहते हैं कि ज्यादा लोगों को कर के दायरे में लाया गया, लेकिन लाखों लोगों की इस वजह से नौकरियां चली गई, वह इसके पीछे का तर्क देने में विफल रहते हैं? क्या बीजेपी या वित्तमंत्री खुद को लाखों लोगों की नौकरियों को लेकर वजह नहीं बता सकते हैं? अगर ऐसा नहीं है तो बीजेपी जनता से नोटबंदी के लिए माफी मांगे या फिर जनता के सजा के लिए जनता के अदालत में जाने के लिए तैयार रहे।