मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा 99% लोग नहीं जानते हैं ये बात, जानिए इसकी क्या है वजह

हिंदू धर्म पूजा पाठ का बहुत ही ज्यादा महत्व है, जिसकी मान्यताएं प्राचीन काल से ही चली आ रही है। जी हां, हिंदू धर्म में मंदिर जाकर पूजा अर्चना करना बेहद शुभ माना जाता है। हर कोई खुशी के मौके पर भगवान के मंदिर जाना पसंद करता है। या फिर अगर किसी को कोई मन्नत या फिर कोई त्यौहार हो तो मंदिर जाना तो बनता ही है। मंदिर जाने की प्रथा अभी से नहीं शुरू हुई है, बल्कि यह तो सदियों से चली आ रही एक ऐसी प्रथा है, जिस पर लोगों की अटूट विश्वास है। हर इंसान कभी न कभी मंदिर ज़रूर जाता होगा। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है,मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा ?

मंदिर जाकर पूजा पाठ करना तो बेहद आम बात है, लेकिन अक्सर आप भी मंदिर में जाकर परिक्रमा लगाते हैं। जी हां, आप परिक्रमा ज़रूर लगाते हैं, लेकिन आपको इसके पीछे की मान्यता के बारे में नहीं पता होगा। मंदिर जाकर पूजा आरती के बाद हर कोई 5 या 7 बार परिक्रमा लगाता है। बिना परिक्रमा के पूजा सफल नहीं मानी जाती है। इसलिए कोई भी मंदिर क्यों न हो, वहां परिक्रमा ज़रूर लगाई जाती है। इतना ही नहीं, कई लोग तुलसी को जल देते समय भी परिक्रमा करते हैं। आज हम आपको परिक्रमा करने के पीछे की मान्यता के बारे में बताने जा रहे हैं और इससे क्या फायदा होता है, इससे भी रूबरू कराएंगे।

मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा, परिक्रमा से जुड़ी मान्यता

मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा

मंदिर में परिक्रमा लगाने के पीछे लोककथा यह है कि भगवान गणेश जी की अपने भाई कार्तिक के साथ पूरी सृष्टि के चक्कर लगाने की शर्त लगी थी, लेकिन गणेश जी ने सिर्फ अपने माता पिता के ही तीन चक्र लगाए उन्हें विजय प्राप्त हुई थी, क्योंकि पूरी सृष्टि माता पिता के चरणों में ही हैं। इसी आधार पर भगवान को अपना माता पिता मानकर हर कोई परिक्रमा लगाता है और माना जाता है कि परिक्रमा लगाने से भगवान माता पिता के रूप में उस व्यक्ति के साथ बने रहते हैं, जोकि उनकी परिक्रमा करता है।

मंदिर में परिक्रमा लगाने के फायदे

मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा

अब हम आपको परिक्रमा लगाने के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी मान्यता सदियों से चली आ रही है। तो चलिए जानते हैं कि परिक्रमा लगाने के क्या क्या फायदे हो सकते हैं –

परिक्रमा लगाने से आर्थिक स्थिति मजबूत होता है

माना जाता है कि परिक्रमा लगाने से भगवान की कृपा बरसती है और इससे आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। इसके अलावा व्यक्ति के घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है। भगवान उसके साथ साए की तरह बने रहते हैं। इसलिए हर किसी को परिक्रमा लगानी चाहिए।

परिक्रमा लगाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होता है

मान्यता के अनुसार, जो भी इंसान परिक्रमा लगाता है, उसके घर से नकारात्मक ऊर्जा हमेशा के लिए चली जाती है और घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है, जिससे घर में सुख शांति बनी रहती है।

परिक्रमा लगाने से तरक्की होता है

मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा

मान्यता के अनुसार, जो भी शख्स भगवान की परिक्रमा करता है, उसकी दिन दोगुनी और रात चौगुनी तरक्की होती है। इसलिए हर किसी को भगवान की परिक्रमा ज़रूर करनी चाहिए।  तो हम ने आप को बताया की मंदिर में क्यों लगाते हैं परिक्रमा, परिक्रमा लगाने की वजह क्या है, अब उम्मीद है आप जब मंदिर की परिक्रमा लगाएंगे तो परिक्रमा लगाने के वजह से भी वाकिफ होंगे