करवा चौथ का व्रत करते समय बरतें ये सावधानियां, होगी सौभाग्य की प्राप्ति

करवा चौथ का व्रत महिलाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है यह व्रत अपने पति के लिए सुहागिन महिलाएं रखती हैं इस दिन महिलाएं पूरा सोलह सिंगार करके पूजा करती हैं करवा चौथ का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है मिट्टी के टोटीनुमा पात्र जिससे जल अर्पित करते हैं उसको करवा कहा जाता है और चतुर्थी तिथि को चौथ कहते हैं इस दिन भगवान गणेश माता पार्वती और चंद्रमा की पूजा होती है चंद्रमा को आयु सुख और शांति का कारक माना गया है इसलिए चंद्रमा की पूजा करके शादीशुदा महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन में सुख शांति और पति की लंबी उम्र की प्रार्थना करती है करवा चौथ का व्रत सौंदर्य प्राप्ति का पर्व भी माना जाता है इसको करने से रूप और सौंदर्य की प्राप्ति होती है इस बार करवा चौथ का पर्व 27 अक्टूबर 2018 को मनाया जाएगा। जानिये करवा चौथ व्रत के नियम

करवा चौथ व्रत के नियम और सावधानियां

करवा चौथ व्रत के नियम

  • जो महिलाएं सुहागिन है या फिर जिन महिलाओं का रिश्ता तय हो चुका है वहीं महिलाएं करवा चौथ का व्रत रख सकती हैं।
  • करवा चौथ का व्रत सूर्य उदय से चंद्र उदय तक रखा जाता है।
  • जिन महिलाओं ने करवा चौथ का व्रत रखा है वह भूल कर भी काला या फिर सफेद रंग का वस्त्र धारण ना करें, आप इस दिन लाल वस्त्र या पीले वस्त्र का धारण कर सकती हैं यह सबसे अच्छा माना गया है।
  • अगर किसी महिला का स्वास्थ्य ठीक नहीं है तो उस महिला के स्थान पर उसका पति करवा चौथ का व्रत रख सकता है।

सौभाग्य प्राप्ति हेतु करें यह उपाय

करवा चौथ व्रत के नियम

  • अगर किसी के वैवाहिक जीवन में पति पत्नी के बीच दूरियां है तो इसके लिए मध्यरात्रि को पीले वस्त्र धारण कीजिए और भगवान गणेश जी के समक्ष घी का दीपक जलाएं इसके साथ ही भगवान श्री गणेश जी को पीले वस्त्र और हल्दी की दो गांठ अर्पित कीजिए इसके पश्चात ॐ गं गणपतये नमः का जाप कीजिए उसके बाद पीले वस्त्र में हल्दी की गांठ बांधकर अपने पास रख लीजिए यदि आप यह उपाय करती है तो इससे पति पत्नी के बीच की दूरियां समाप्त हो जाएंगी।
  • यदि पति पत्नी के बीच बिना कारण वाद विवाद होता रहता है तो इसके लिए मध्यरात्रि को लाल वस्त्र धारण कीजिए इसके बाद गणेश जी को पीपल के पत्ते पर रखकर सिंदूर अर्पित कीजिए और इसके पश्चात ॐ रिद्धि सिद्धि विनायकय नमः का जाप कीजिए इसका जाप करने के बाद सिंदूर को सुरक्षित रखें और इसका नियमित प्रयोग करते रहे, यदि आप यह उपाय करती हैं तो इससे पति पत्नी के बीच होने वाले बिना किसी वजह के वाद विवाद से छुटकारा मिलता है।

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि करवा चौथ का व्रत बहुत ही पवित्र माना जाता है खासतौर से सुहागिन महिलाएं करवा चौथ का व्रत अपने पति के लिए रखती हैं और इस दिन चंद्रमा के दर्शन किए जाते हैं ऐसा माना जाता है कि करवा चौथ पर चंद्रमा के दर्शन करने के पश्चात अपना व्रत खोलने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है इसके साथ ही महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए चंद्रमा से प्रार्थना करती हैं जो बातें हमने आपको करवा चौथ व्रत के नियम बताये हैं अगर आप इन सावधानियों को बरतती है और सौभाग्य प्राप्ति हेतु यह उपाय करती है तो आपके वैवाहिक जीवन में हमेशा खुशियां बनी रहेंगी और पति पत्नी के बीच चल रहे सभी तरह के मनमुटाव दूर हो जाएंगे। आशा है की आप करवा चौथ व्रत के नियम के अनुसार इस व्रत का पालन कर के सौभाग्यशाली बनेंगी

यह भी पढ़ें