राजनीति

मन की बात में बोले प्रधानमंत्री मोदी, ‘भारत एक शांति प्रिय देश’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बहूचर्चित रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ आज 48वीं बार ऑल इंडिया रेडियो से प्रसारित हुआ। पीएम ने देशवासियों के साथ अपने विचार साझा किए। सर्जिकल स्ट्राइक के दो वर्ष पूरे होने पर सेना के जवानों को सलाम किया। पीएम मोदी ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के दो वर्ष पूरा होने से सभी देशवासियों ने 29 सितंबर को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया।

उन्होंने कहा कि हमारे यहां अब यह तय हो चुका है कि जो भी लोग हमारे राष्ट्र में शांति और उन्नति के माहौल को खराब करने का प्रयास करेंगे उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। भारत एक शांति प्रिय देश रहा है, लेकिन हम अपने संप्रुभता को दावं पर लगाकर हम ऐसा बिल्कुल नहीं करेंगे।

भारत एक शांति प्रिय देश- पीएम ने कहा कि भारत एक शांति प्रिय देश है। हमारा पहला विश्वास शांति पर है। हम इसे पूरे देश और विश्वभर में बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। लेकिन देश के सम्मान के साथ और अपने संप्रभुता के साथ समझौता करके कतई नहीं। प्रधानमंत्री ने कहा कि कई वर्षों से हमारे बहादुर सैनिकों ने ब्लू हैलमेट पहन विश्व में शांति कायम रखने में अहम भूमिका निभाई है। हमारे लाखों सैनिकों ने सिर्फ शांति के लिए अपनी सर्वोच्च बलिदानी तब दे दी थी, जब हमारा उस युद्ध से कोई वास्ता नहीं था। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र की अलग अलग शांति कीपींग फोर्स में आज भी भारत सबसे अधिक सैनिक भेजने वाले देशों में से है।

गांधी जयंती- प्रधानमंत्री गांधी जयंती को लेकर कहा कि हम महात्मा गांधी के 150वीं जयंती के उपलक्ष्य पर विश्वभर में अनेक कार्यक्रम करने वाले हैं। पीएम ने कहा कि महात्मा गांधी के विचारों ने पूरे दुनिया को प्रेरित किया है। डॉ. मार्टिन लूथर किंग जूनियर हों या नेलशन मंडेला जैसी महान विभूतियां हर किसी ने गांधी जी के विचारों से शक्ति पाई और अपने लोगों को समानता दिलाने के लिए लंबी लड़ाई लडे़।

गांधी जी का मूलमंत्र- पीएम ने कहा कि गांधी जी ने देशवासियों को एक मूलमंत्र दिया था। गांधी जी ने कहा था कि जब भी तुम पर अहम हावी हो या तुम्हें संदेह हो। तो जो सबसे गरीब इंसान तुमने देखा हो, उसके बारे में विचार करो और सोचो कि तुम्हारे उस कदम से उस इंसान को क्या फायदा होगा। तब तुम देखोगे कि तुम्हारा अहम कम हो रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि देश में कुछ भी खरीदे तो अपने देशवासियों के बारे में जरूर सोचें।

वायुसेना दिवस- पीएम मोदी ने कहा कि 8 अक्टूबर को वायुसेना दिवस के रूप में मनाया जाता है। वायुसेना के इतिहास को याद करते हुए कहा कि 1932 में 6 पायलट और 19 वायुसैनिकों के साथ एक छोटी सी शुरूआत हुई थी। और आज 21वीं सदी पहुँचते हमारी वायुसेना शक्तिशाली और साहसिक एयरफोर्स में शामिल हो चुकी है।

 

Related Articles

Close