विशेष

भगवान शिवजी से सीखिए यह 4 बातें, आपके वैवाहिक जीवन में बरसेगा प्यार, आएंगीं खुशियां

भगवान भोलेनाथ स्वभाव के बहुत ही भोले हैं यह अपने भक्तों से बहुत ही शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं जो कुंवारी लड़कियां होती है वह अपनी इच्छा अनुसार वर प्राप्ति के लिए भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना करती हैं और शादीशुदा महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन को खुशहाल बनाने के लिए अपनी सच्ची श्रद्धा से भगवान भोलेनाथ की पूजा करती हैं भगवान भोलेनाथ को गृहस्थ जीवन का देवता कहा गया है इन्हीं सब कारणों से कुंवारी लड़कियों के साथ-साथ शादीशुदा महिलाएं भी भगवान भोलेनाथ की पूजा करती हैं शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए सोमवार का व्रत रखती है जैसा की हमने आपको बताया कि भगवान भोलेनाथ को गृहस्थ जीवन का देवता माना गया है तो आपको अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने के लिए भगवान शिवजी और पार्वती से ऐसी 4 बातें सीखनी चाहिए और इन बातों को अपने जीवन में उतार लेना चाहिए अगर आप इन बातों को अपने जीवन में अपनाते हैं तो आपका वैवाहिक जीवन खुशहाली पूर्वक व्यतीत होगा।

आज हम आपको भगवान शिव जी से कौन सी चार बातें सीखनी चाहिए इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं।

आइए जानते हैं कौन सी 4 बातें भगवान शिव जी से सीखनी चाहिए

प्यार

आजकल के समय में भगवान शिव जी और माता पार्वती जी उन सभी लोगों के लिए एक उदाहरण है जो शादी करते समय बैंक बैलेंस और खूबसूरती को ज्यादा महत्व देते हैं माता पार्वती जी ने भस्मधारी गले में सांप की माला पहने हुए भगवान शिवजी को पसंद किया था ऐसे में यह संदेश मिलता है कि अच्छे गृहस्थ जीवन के लिए दोनों के बीच प्यार और समर्पण आवश्यक है ना कि धन और खूबसूरती का होना।

समानता

पुराणों के अनुसार भगवान शिवजी एकमात्र ऐसे देवता हैं जिनमें आधा पुरुष का और आधा नारी का रूप है जिसकी वजह से इनको अर्धनारीश्वर कहा गया है अपने आधे पुरुष और आधे स्त्री के इस रूप से शादीशुदा व्यक्तियों को यह समझाते हैं कि पति और पत्नी भले ही शरीर से अलग क्यों ना हो परंतु मन से दोनों एक ही होते हैं आप लोगों ने अक्सर देखा होगा कि पति और पत्नी अपने आपको सबसे बड़ा दिखाने के लिए लड़ाई झगड़ा करते हैं अगर आपके घर में भी इसी प्रकार का कुछ होता है तो शिवजी से आपको यह सीख जरूर लेनी चाहिए शादीशुदा जोड़ा शरीर से चाहे अलग होता है परंतु उनमें समानता का अधिकार एक समान होना जरूरी है।

मुखिया

आप लोगों ने देखा होगा कि परिवार के मुखिया का विचार अलग-अलग होता है परंतु वह पूरे घर को एक साथ लेकर चलता है ठीक इसी तरह भगवान शिवजी भी अपने परिवार को एक साथ रखते हैं उदाहरण के लिए भगवान शिवजी के गले में सांप की माला है जो कि उनके पुत्र गणेश के वाहन चूहे का शत्रु होता है इसके बावजूद भी इन दोनों के बीच में कोई बैर नहीं देखा जाता है ठीक उसी तरह माता गौरी का वाहन शेर और भगवान शिव का वाहन बैल है वह भी एक दूसरे के शत्रु होते हैं परंतु इन सबके बावजूद भी यह मिलकर एक साथ रहते हैं भगवान शिव जी ऐसे गृहस्थ देवता हैं जो बुरी परिस्थितियों में भी अपने परिवार को साथ लेकर चलते हैं।

ईमानदारी

इस संसार में हर लड़की का यही ख्वाब होता है कि उसका होने वाला जीवनसाथी बिल्कुल भगवान शिवजी की तरह भोला हो और उसको प्यार करने वाला हो जो उसकी सभी बातों को ध्यान पूर्वक सुने भगवान शिवजी भी माता पार्वती जी से बहुत अधिक प्यार करते थे आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं, जब माता पार्वती भगवान शिव जी के हुए अपमान से दुखी होकर सती हो गई थी तो भगवान शिव जी ने रौद्र रूप धारण करके दुनिया का विनाश करना शुरू कर दिया था परंतु देवताओं के समझाने पर वह शांत भी हो गए थे।

उपरोक्त जो बातें हमने आपको भगवान शिव जी के बारे में बताई हैं अगर आप इन सभी बातों को अपने जीवन में उतार लेते हैं तो आपका वैवाहिक जीवन खुशहाली पूर्वक व्यतीत होगा आपको अपने जीवन में किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा आपके वैवाहिक जीवन में प्यार ही प्यार बरसेगा।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close