अध्यात्म

महादेव का अद्भुत मंदिर जहां आरती सुनने मात्र से ही तकलीफों का होता है नाश,मन को मिलती है शान्ति

हमारा भारत देश धार्मिक देशों में से एक माना जाता है हमारे देश में रोजाना कोई ना कोई चमत्कार देखने या सुनने को मिल जाते हैं यहां पर ऐसे बहुत से प्राचीन मंदिर उपस्थित हैं जो अपनी विशेषता और चमत्कारों के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है इन चमत्कारों को देख कर सभी लोगों की आंखें खुली की खुली रह जाती है इन चमत्कारों को देखकर वैज्ञानिक भी हैरान हैं आज हम आपको इसी तरह के एक ऐसे चमत्कारिक मंदिर के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिसके चमत्कार के बारे में सुनकर आप भी आश्चर्यचकित हो जाएंगे ऐसा बताया जाता है कि इस मंदिर में चमत्कार होते रहते हैं ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर में आरती सुनने मात्र से ही भक्तों की सारी तकलीफें दूर हो जाती है तो आइए जानते हैं इस मंदिर के चमत्कार के बारे में।

दरअसल, हम जिस मंदिर की बात कर रहे हैं यह मधुबनी जिला के मंगरौनी गांव में स्थित है यह चमत्कारिक मंदिर श्री श्री 1108 एकादश रुद्र महादेव मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है जो मधुबनी बस स्टैंड से 3 किलोमीटर दूरी पर स्थित है इस मंदिर को सन 1953 में मिथिला के महान तांत्रिक मुनेश्वर झा ने स्थापित करवाया था इस मंदिर के बारे में ऐसा बताया जाता है कि यहां कोई ना कोई चमत्कार देखने को मिलता रहता है इस स्थान पर एक ही शक्ति वेदी पर भगवान शंकर के 11 अलौकिक रूपों को देखा जा सकता है इस मंदिर के पुजारी और दूर दराज से आने वाले श्रद्धालुओं का ऐसा कहना है कि ऐसा खूबसूरत दृश्य उनको कहीं भी देखने को नहीं मिलता है।

अगर आप इस मंदिर के दर्शन करने आएंगे तो आपको यहां पर आने से मन को शांति प्राप्त होगी इस मंदिर की एक खास बात यह भी है कि यहां महादेव का मूल मंत्र ॐ नमः शिवाय बदलकर ॐ एकादस रुद्राय हो गया है और इसके बारे में ऐसा कहा जाता है कि इस मंत्र के एक बार जाप से 11 बार ॐ नमः शिवा जाप करने का फल प्राप्त होता है ऐसा मानना है कि जो भी श्रद्धालु यहां पर आकर आरती सुनता है तो उसके सभी दुख और कष्ट आरती सुनने मात्र से ही जड़ से समाप्त हो जाते हैं और उनको अपनी सभी परेशानियों से छुटकारा मिलता है इस मंदिर में दूर-दूर से लोग अपने मन में श्रद्धा और विश्वास के साथ आते हैं और इस मंदिर से महादेव के दरबार से अपनी झोली भर कर जाते हैं।

इस मंदिर में रोजाना महादेव का श्रृंगार दूध घी मधु दही गंगाजल भांग और फूल से किया जाता है इसके साथ ही महादेव की विशेष पूजा और आरती भी की जाती है और भारी की संख्या में श्रद्धालु इस आरती में भाग लेते हैं अगर आप सावन के महीने में इस मंदिर के दर्शन करने आएंगे तो यहां का नजारा बिल्कुल ही अलग होता है आप इस मंदिर के दृश्य को देखकर बहुत ही अच्छा महसूस करेंगे और आप अपनी तकलीफों को भूल जाएंगे महादेव के प्रिय त्यौहार सावन में यहां 11 ज्योतिर्लिंगों का विशेष श्रृंगार और पूजा की जाती है और इस मंदिर के पुजारी डमरू बजाकर तांडव गाते हैं ऐसा कहा जाता है कि तांडव के श्रवण मात्र से व्यक्तियों के सारे दुख कष्ट खत्म हो जाते हैं।

अगर हम इस मंदिर की विशेषता के बारे में बात करें तो इस मंदिर में निर्धन से लेकर धनवान तक सभी दर्शन के लिए लाइन लगाते हैं सभी भक्त यहां आकर महादेव की पूजा अर्चना करते हैं इसके साथ ही हर वर्ष यहां की अलौकिक प्रभाव से प्रभावित भी हो जाते हैं जो भी श्रद्धालु इस मंदिर में आता है उसके सभी कष्ट महादेव दूर करते हैं और श्रद्धालु हंसी खुशी महादेव के दर्शन कर कर वापस लौटते हैं।

Related Articles

Close