पीएम मोदी का बड़ा फैसला – 500 और 1000 रुपये के नोट गैर-कानूनी, 30 दिसंबर तक जमा कराए

नई दिल्ली –  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात 8 बजे देश को संबोधित करते हुए कहा कि मैं देश के कुछ गंभीर विषयों पर आपसे बात करना चाहता हूं। मैं आपको बताना चाहता हूं कि सरकार ने 8 नवंबर से 9 नवंबर की मध्यरात्रि से 500 और 1000 के नोटों को बंद करने का फैसला लिया है। 500 और 1000 के नोटों के अलावा बाकी सभी नोट और सिक्के नियमित हैं और उनसे लेन-देन हो सकता है। पीएम मोदी का ये फैसला कालेधन पर लगाम लगाने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा है। PM Modi announced Ban on 500 and 1000 Rupee Note.

देश हित में लिया ऐतिहासिक फैसला –

सरकार की उपलब्धियों के बारे में जानकारी देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हम किसानों के लिए फसल बीमा योजना लेकर आए। पीएम मोदी ने कहा कि ‘सबका साथ सबका विकास’ सरकार का मूलमंत्र है साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कभी-कभी देश हित में निर्णायक फैसले लेने पड़ते हैं।

पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि पिछले दशकों में हम यह अनुभव कर रहे हैं कि देश में भ्रष्टाचार और कालाधन जैसी जड़ें जम गई हैं। भ्रष्टाचार और कालेधन के जाल तो तोड़ने के लिए सरकार सख्त कदम उठा रही है।

सीमा पार से दुश्मन चला रहे हैं जाली नोटों का धंधा –

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि हमारे दुश्मन सीमा पार से जाली नोटों के जरिए भारत में अपना धंधा चला रहे हैं। भ्रष्टाचार,काला धन हमारे देश के लिए बीमारी की तरह है। गरीबी हटाने में भ्रष्टाचार और कालाधन सबसे बड़ी बाधा है। आतंकवाद और जाली नोट देश को तबाह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले ढाई वर्षों में भारत ने ग्लोबल इकॉनामी में एक ‘ब्राइट स्पाट’ के रूप में उपस्थिति दर्ज कराई है।

हाईलेवल मीटिंग में हुए कई कड़े फैसले –

दरअसल, आज दिन में राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में उच्चस्तरीय बैठक हुई। इस बैठक में पीएम मोदी के साथ तीनों सेनाओं के प्रमुख और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार भी शामिल हुए थे। इस बैठक में सीमा पर फायरिंग की बढ़ती घटनाओं को लेकर बैठक में चर्चा हुई।

सूत्रों के मुताबिक इस उच्चस्तरीय बैठक में पीएम मोदी आर्मी प्रमुख ने सीमा पर ताजा हालात के बारे में जानकारी ली और कई आदेश दिए। बैठक में अजीत डोभाल ने भी सीमा सुरक्षा को और सख्त करने के लिए अपने सुझाव दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.