पाकिस्तान में दहशत – भारत के ‘स्मॉग बम’ का अगला शिकार बने लाहौर और कराची

नई दिल्ली –  दिल्ली एनसीआर में बढ़ते वायु प्रदूषण ने सरकार के साथ – साथ लोगों के भी होश उड़ा दिये हैं। अब ये स्मोग पाकिस्तानी आवाम के लिए भी परेशानी का सबब बन गया है। यह रिकॉर्ड तोड़ स्मोग अब पड़ोसी मुल्क तक जा पहुंचा है। पंजाब से जुड़े लाहौर और कराची में इस स्मोग बम से सभी परेशान हैं। Air pollution in Delhi and lahore.

Air pollution in Delhi and lahore

लाहौर तक जा पहुंचा दिल्ली का पॉल्यूशन –

पाक मीडिया ने यह आरोप लगाया है कि दिल्ली का धुंध पाकिस्तान तक पहुंच गया है। पाक मीडिया के मुताबिक, “पाकिस्तान के पंजाब प्रोविंस के कई शहरों में तीन-चार दिन से घना धुंध है। लोगों को आंखों में जलन और सांस लेने में दिक्कत हो रही है। पहले ऐसा समझा जा रहा था कि यह स्मॉग वाहनों से निकलने वाले धुएं से हो रहा है, लेकिन हकीकत में यह भारत के खेतों में जलाए जा रहे कचरे की वजह से हो रहा है।”

यह भी ख़बर है कि पंजाब सरकार स्मॉग से स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों और सड़क हादसों के मद्देनजर स्कूल बंद करने पर भी विचार कर रही है। पंजाब में स्मॉग से जुड़ी घटनाओं में पिछले हफ्ते कम से कम 17 लोग मारे गए हैं। अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है। इनमें बच्चों और बुजुर्गों की तादाद सबसे ज्यादा है।

प्रदूषण के लिए दिल्ली जिम्मेदार –  

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर पर्यावरण मंत्री अनिल दवे के नेतृत्व में बैठक की जा रही है। दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ते स्तर पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (एनजीटी) ने दिल्ली सरकार, केन्द्र, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान सरकार को फटकार लगाई है।

एनजीटी ने पूछा है कि प्रदूषण से निपटने के लिए आपने अब तक क्या कदम उठाए हैं? सड़कों पर उड़ती धूल से निपटने के लिए पानी का छिड़काव क्यों नहीं किया गया? हेलिकॉप्टर से पानी का छिड़काव किए जाने के प्रस्ताव का क्या हुआ?

खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण –

दिवाली की अगली सुबह जब लोग सड़कों पर निकले तो मौसम में धुंध छाई हुई थी। दिवाली के अगले दिन ही पटाखे जलाए जाने के चलते धुएं से प्रदूषण रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था। पटाखों से हुए प्रदूषण का सबसे ज्यादा असर दिल्ली-एनसीआर में देखने को मिला। बता दें कि दिल्ली में इस बार प्रदूषण की मात्रा पिछले तीन सालों में सबसे ज्यादा दर्ज की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.