सावन में शिवलिंग पर भूलकर भी ना अर्पित करें यह चीजें, वरना होगा घोर अनर्थ

दोस्तों आप सभी लोगों को तो यह पता ही होगा कि 28 जुलाई से सावन का महीना आरंभ होने वाला है सावन के महीने में सभी जगह शिव मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ लगने वाली है भोले बाबा के भक्त इनको प्रसन्न करने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे इनको प्रसन्न करने के लिए इनकी पूजा आराधना करेंगे और बहुत सी चीजें इनके ऊपर अर्पित भी की जाएगी जिससे भगवान शिव जी प्रसन्न हो जाए परंतु कई बार ऐसा देखा गया है कि भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के चक्कर में बहुत सी महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान नहीं दिया जाता की कौन सी चीजें भगवान भोलेनाथ को अर्पित करनी चाहिए जिससे वह खुश हो सके और कौन सी चीजें अर्पित नहीं करनी चाहिए, जब व्यक्ति के मन में सच्ची श्रद्धा होती है तो वह सारी बातों को भूल जाता है जिसकी वजह से उसको विपरीत परिणाम का सामना करना पड़ता है ऐसी बहुत सी चीजें होती हैं जिनको भगवान भोलेनाथ को अर्पित करने से यह क्रोधित हो जाते हैं और इनके क्रोध का सामना करना पड़ता है।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से उन चीजों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिन चीजों को अगर अर्पित किया जाए तो भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होने की जगह क्रोधित हो जाएंगे जिसकी वजह से आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है आपके घर परिवार की आर्थिक स्थिति भी बिगड़ सकती है।

आइए जानते हैं किन चीजों को शिवलिंग पर भूलकर भी अर्पित नहीं करना चाहिए

तुलसी का पत्ता

आप भूलकर भी शिवलिंग के ऊपर तुलसी का पत्ता अर्पित ना करें क्योंकि जालंधर नामक असुर की पत्नी वृंदा के अंश से तुलसी का जन्म हुआ था जिसे भगवान विष्णु जी ने पत्नी के रुप में स्वीकार किया था इसलिए तुलसी से शिवजी की पूजा नहीं की जाती है।

शंख से जल अर्पित करना

भगवान शिवजी की पूजा शंख से कभी नहीं करनी चाहिए और ना ही शंख से इनको जल अर्पित करना चाहिए क्योंकि भगवान शिव जी ने शंखचूड नाम के असुर का वध किया था शंख को उसी असुर का प्रतीक माना जाता है यह असुर भगवान विष्णु जी का भक्त था इसलिए भगवान विष्णु जी की पूजा शंख से की जाती है।

तिल

ऐसा बताया जाता है कि भगवान विष्णु जी के मैल से तिल उत्पन्न हुआ था इसी वजह से भगवान शिव जी के ऊपर तिल अर्पित नहीं करना चाहिए।

टूटे हुए चावल

शास्त्रों में इस बात का उल्लेख किया गया है कि भगवान शिवजी को साबुत चावल अर्पित करने चाहिए क्योंकि टूटा हुआ चावल अपूर्ण और अशुभ माना जाता है इसलिए टूटे हुए चावल को भूलकर भी शिव जी को अर्पित नहीं करना चाहिए।

हल्दी

भगवान शिवजी की पूजा में हल्दी का भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि हल्दी का संबंध भगवान विष्णु और सौभाग्य से होता है।

नारियल पानी

नारियल को देवी माता लक्ष्मी जी का प्रतीक माना गया है जिनका संबंध भगवान विष्णु से होता है इसलिए भूलकर भी शिव जी को नारियल पानी अर्पित नहीं करना चाहिए।

कुमकुम

भगवान शिव जी को भूलकर भी कुमकुम अर्पित नहीं करना चाहिए क्योंकि यह सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है जबकि भगवान शिव वैरागी है।