सख्त हुई मोदी सरकार, भ्र्ष्टाचारियो की अब खैर नहीं

केंद्र की मोदी सरकार ने अब एक बड़ा फैसला लिया है। जी हां, मोदी सरकार ने भ्र्ष्टाचारियो पर नकेल कसने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है। मोदी सरकार के इस फैसले से अब कोई घोटालेबाज देश छोड़कर विदेश नहीं भाग पायेगा। बता दें कि सरकार ने ये फैसला इसलिए लिया ताकि कोई फिर से घोटाला करके विदेश ने भाग जाए। आइये जानते है कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?


नीरव मोदी कांड के बाद सरकार पहली बार सख्त नजर आ रही है। जी हां इसके मोदी सरकार ने पासपोर्ट को लेकर बड़ा एलान किया है, इससे भ्र्ष्टाचारियो के मनसूबों पे पानी फिर जाएगा। नीरव मोदी के विदेश भाग जाने से केंद्र सरकार को विपक्ष की आलोचनाओ का सामना करना पड़ रहा है, ऐसे में अब सरकार ने पासपोर्ट को लेकर बड़ा फैसला किया है। बता दें कि सरकार के इस फैसले में यह है कि किसी भी ऐस व्यक्ति का पासपोर्ट नहीं बनाया जाएगा, जिस पे कोई आपराधिक मामला दर्ज हो, इससे आपराधिक गतिविधिया कम होगी।

याद दिला दें कि नीरव मोदी को लेकर विपक्ष सरकार पे हल्ला बोलती हुई नजर आ रही है। लेकिन यहां बात सिर्फ नीरव मोदी की नहीं है, बल्कि विजय माल्या जैसे लोग भी सरकार की आंखों में धूल झोंकने में कामयाब हुए है। ऐसे में इस तरह के फैसले लेना बहुत जरूरी है।


मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो यदि किसी अधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में कोई जांच चल रही है या वह दोषी पाया गया है, या फिर उसके खिलाफ इस मामले में कोई एफआईआर दर्ज की गई है, तो उसे पासपोर्ट नहीं दिया जाएगा। सरकार ने ये कदम इसलिए उठाया है ताकि फिर से कभी भविष्य में कोई नीरव मोदी कानून और सरकार की आंखों में धूल झोंक कर फरार न हो जाये। यूं तो ऐसा नियम पहले से ही है, लेकिन अब भ्र्ष्टाचार के मामले में जुड़े किसी भी व्यक्ति को पासपोर्ट नहीं दिया जाएगा, अगर उसके पास पहले से ही पासपोर्ट है तो वो कैंसिल कर दिया जाएगा।
बहरहाल, देखना ये होगा कि सरकार द्वारा उठाये गए ये कदम भ्र्ष्टाचार से जुड़े लोगों पे कितना नकेल कसने में कामयाब हो पाती है? खैर, ये तो वक्त ही बताएगा, लेकिन सरकार की तरफ से ये कदम सराहनीय कहा जा सकता है। बताते चलें कि सम्बंधित अधिकारियों की माने तो यह फैसला उन लोगो के मुंह पर सीधा तमाचा है, जो सरकार की आंखों में धूल झोंकने का काम करते है। लेकिन यहां सवाल ज्यो का त्यों बना हुआ है कि आखिर नीरव मोदी पे सरकार कब कार्रवाई करती है?

Shreya Pandey

Web Journalist