एनडीए से अलग होने पर टीडीपी को अमित शाह ने लिखा खत, जानिये क्या है लेटर में?

पिछले कई दिनों से केंद्र की एनडीए सरकार की सहयोगी पार्टियां उससे खफा नजर आ रही है, ऐसे में टीडीपी ने एनडीए से अपना रास्ता भी अलग कर लिया, लेकिन इसके बावजूद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू को एक खत लिखा, जिसके बाद से सियासी गलियारों मेें हलचलें तेज हो चुकी हैं। बता दें कि टीडीपी ने एनडीए से गठबंधन तोड़ लिया है, जिसके बाद अब वो 2019 औऱ आगामी विधानसभा चुनाव अकेले ही लड़ेगी। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की मांग पूरी न होने पर टीडीपी ने बीजेपी का दामन छोड़ दिया, इसके बाद वो केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ संसद में अविश्वास प्रस्ताव लाने के मूड में है। जी हां, टीडीपी का आरोप है कि आंध्र के साथ केंद्र सरकार न्याय नहीं कर रही है, जिसकी वजह से वो एनडीए से अलग हो रहे है। इसके अलावा चंद्रबाबू नायडू ने बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा था कि बीजेपी ने आंध्र के लिए कभी कुछ नहीं किया, ऐसे में अब वो बीजेपी के खिलाफ वादाखिलाफी का प्रस्ताव लेकर आएगी।

बताते चलें कि मोदी सरकार ने इस साल फरवरी में अपना आखिरी पूर्ण बजट पेश किया, जिसमें आंध्र को विशेष पैकेज देने या विशेष राज्य का दर्जा देने की उम्मीद थी, लेकिन इस उम्मीद पर जेटली ने पानी फेरते हुए साफ कहा कि आंध्र को विशेष दर्जा नहीं दिया जा सकता है, बल्कि उसे विशेष पैकेज दिया जाएगा, पर जेटली के आश्वासन से चंद्रबाबू संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने एनडीए के खिलाफ जमकर मोर्चा खोल दिया। हालांकि, दोनों पार्टियों ने साथ बने रहने की हर संभव कोशिश की लेकिन जब बात नहीं बनी तो टीडीपी ने अलग होने का फैसला तो लिया इसके साथ ही बीजेपी पर वादाखिलाफी का आरोप भी लगा दिया।

अमित शाह ने चंद्रबाबू नायडू को लिखा खत

ऐसे में अब बीजेपी अध्य़क्ष अमित शाह ने चंद्रबाबू नायडू को खत लिखते हुए कहा कि अलग होने का एकतरफा फैसला बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। टीडीपी को आंध्र के विकास की कोई चिंता नहीं है, इसलिए उसने ये एकतरफा फैसला लिया है। बता दें कि आंध्र में टीडीपी की सरकार है, ऐसे में टीडीपी ने बीजेपी से विशेष राज्य का दर्जा मांगा था,जोकि बीजेपी देने में असफल रही। गौरतलब है कि अमित शाह उस समय पूर्वोत्तर राज्यों मे व्यस्त थे, ऐसे में अब उन्होंने टीडीपी पर विकास न करने का गंंभीर आरोप लगाया है। अमित शाह ने कहा कि टीडीपी और चंद्रबाबू नायडू को प्रदेश के विकास की थोड़ी भी टेंशन नहीं है, जिसकी वजह से वो एनडीए से अलग हुए।

Shreya Pandey

Web Journalist