विशेष

विराट कोहली के साथ इस कंपनी ने किया बड़ा धोखा, पानी की जगह पिला दिया प्लास्टिक

कुछ दिन पहले आपने एक ख़बर जरूर पढ़ी होगी, जिसमें भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के खानी पीने को लेकर चर्चा में थी। मीडिया में आई इन ख़बरों में कहा गया कि फिटनेस के लिए विराट कोहली खाने में कभी कंजूसी नहीं करते हैं, इसी लिए वो फ्रांस की कंपनी का पानी पीते हैं। जिसकी कीमत छह सौ रुपए प्रति लीटर की है। जिसके लिए महीने का खर्च उनका करीब पचास हजार रुपए के आसपास है। लेकिन उनके पानी को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। क्योंकि इस पानी के नामपर उनके साथ कंपनी ने बड़ा धोखा किया है।

1 आईफोन की कीमत के बराबर होता है विराट कोहली के 1 लीटर पानी का खर्च, कीमत जान उड़ जाएंगे होश

विराठ कोहली क्रिकेट के साथ साथ अपने निजी जिंदगी के लिए भी बेहद लोकप्रिय है। लोग उनकी स्टाइल पर मरते हैं। विराट के पर्स से लेकर जूते और हाथों के बैंड खबरों की सुर्खियों में आ चुके हैं। इस सब के बीच कोहली के लिए एक बड़ी ख़बर सामने आई है। दिल्ली में हुई एक कांन्फ्रेंस के दौरान कहा गया है, की जो पानी विराट कोहली पीते है उसमें पानी के साथ साथ प्लास्टिक भी है। जो की उनको छह सौ रुपए लीटर पानी के साथ मुफ्त में दिया जाता है। यह खुलासा 100 से ज्यादा विशेषज्ञों ने बीते गुरुवार को नई दिल्ली में एक कॉन्फ्रेंस में किया है।

बोतल बंद पानी में है प्लास्टिक

विशेषज्ञों ने दावा किया है कि दुनिया भर में 90 फीसदी बोतलबंद पानी में प्लास्टिक के बारीक कण घुले हुए हैं। चौकाने वाली बात ये है कि इस बोतल पैक पानी बनाने वाली कंपनियों में दुनिया के 9 देशों के 11 बड़े ब्रांड्स भी शामिल हैं।

न्यूयॉर्क की स्टेट यूनिवर्सिटी ने भारत समेत कई देशों के प्लास्टिक बोतल के पानी को जांचा और परखा है। जिसमें बड़े ब्रांड के 27 लॉट में से 259 बोतलों का सैंपल लिया गया। जिसमें भारत के दिल्ली, चेन्नई, मुंबई समेत दुनिया के 19 शहरों में जाकर नमूने इकट्ठे किए गए। जांच के दौरान इन बोतलों के पानी में प्लास्टिक पाया गया।

ईवीयन कंपनी के पानी में भी प्लास्टिक

जिन कंपनियों के पानी की बोतलों का सैंपल लिया गया। उनमें भारत की बिस्लरी, एक्वाफिना, ईवियन शामिल है। ईवियन एक फ्रांस की कंपनी है। जिसका पानी छह सौ रुपए लीटर मिलता है, जिसको भारतीय कप्तान विराट कोहली पीते है।

नल के पानी से भी ज्यादा खतरनाक

दिल्ली में हुई एक कॉन्फ्रेंस के दौरान विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस पर वैज्ञानिकों ने खुलासा किया की, एक लीटर की बोतल में 10.4 माइक्रोप्लास्टिक, पार्टिकल्स मिले। यह इससे पहले हुई नल के पानी में पाए गए प्लास्टिक अवशेषों की तुलना में दोगुना है।

प्लास्टिक की बोतल के पानी के सैंपल भारत समेत अमेरिका, चीन, ब्राजील, इंडोनेशिया, केन्या, लेबनान, मैक्सिको और थाईलैंड में जाकर लिए गए।  इस दौरान कुल 93 फीसदी नमूनों में प्लास्टिक के अवशेष पाए गए हैं।

बोतल भरते समय आता है प्लास्टिक

रिसर्चर्स के अनुसार प्लास्टिक की बोतल में पानी भरने के समय ही ये प्लास्टिक आ जाता है। प्लास्टिक के अवशेषों में पॉलीप्रोपाइलीन, नायलॉन और पॉलीइथाईलीन टेरेपथालेट भी होता है। इन सबका इस्तेमाल बोतल का ढक्कन बनाने में होता है।

वैज्ञानिकों ने जिन कंपनियों का सैंपल लिया है। उसमें विराट कोहली की फेवरेट ईवीएन भी शामिल है। साथ ही हिन्दुस्तान की बिस्लरी, एक्वाफिना। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कई सालों से विराट कोहली ईवियन नाम का मिनरल पानी पीते हैं, जो खासकर उनके लिए फ्रांस से मंगाया जाता है। इस पानी की एक लीटर बोतल की कीमत 600 रुपए है।

इन ब्रांड्स में भी मिला प्लास्टिक

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि बिस्लरी, एप्यूरा, जेरोलस्टीनर, मिनाल्बा और वाहाहा जैसे ब्रांड्स में भी प्लास्टिक के अवशेष पाए गए हैं। भारत की बिस्लरी और एक्वाफिना के अलावा एक्वा, दसानी, एवियन, नेस्ले प्योर लाइफ और सान पेलेग्रिनो जैसे ब्रांड्स का नाम प्रमुख तौर पर दिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close